पूर्व मंत्री का कैबिनेट विस्तार पर तंज- अवसरवादियों की वजह से दरकिनार हुए BJP के विश्वासपात्र

fight-between-congress-and-bjp-supporters-bhind-in-madhya-pradesh

भोपाल।

मध्यप्रदेश में बीजेपी का बहुप्रतीक्षित कैबिनेट विस्तार गुरुवार को कर दिया गया। लेकिन बीजेपी सरकार में सिंधिया और उनके समर्थकों के दबदबे को लेकर एक बार फिर बयानबाजी का दौर शुरू हो गया है। सियासी गलियारों में कई तरह के आरोपों के बीच तंज कसे जा रहे हैं। इसी बीच अभी पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता जीतू पटवारी ने शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने सिंधिया और उनके समर्थकों की आलोचना करते हुए कहा कि बीजेपी मंत्रिमंडल में जयचंदों के आ जाने से उनकी पार्टी के विश्वास पात्र ही अपनी पार्टी से अलग हो गए हैं।

BJP के निष्ठावान समझ गए होंगे अवसरवादियों को पार्टी में शामिल करने का नतीजा

कांग्रेस नेता ने कहा है कि अब बीजेपी के निष्ठावान समर्थक एवम पार्टी नेता समझ गए होंगे कि अवसरवादियों की भीड़ को पार्टी में शामिल करने के बाद दिग्गज किस तरह किनारे हो जाते हैं।

जिन्होने जनादेश को ठुकराया है, जनता उन्हें सबक सिखाएगी

वहीं 24 सीटों पर चुनाव जीतने का दावा करते हुए पूर्व मंत्री ने कहा कि जिन्होने जनादेश को ठुकराया है, जनता उन्हें सबक सिखाएगी। वहीं उन्होंने साफ कर दिया है कि उपचुनाव की जीत के लिए कांग्रेस और उनके कार्यकर्ताओं को संघर्ष के लिए तैयार रहना होगा।

विश्वासघात सबसे बड़ा अधर्म है

इसके साथ ही पटवारी में एक अन्य ट्वीट करते हुए कहा कि विश्वासघात सबसे बड़ा अधर्म है। अब वो लोग भी अन्याय समझा रहें जिन्होंने वर्षों जनता का शोषण और अन्याय किया। पटवारी ने लोकतन्त्र की मर्यादा पर बोलते हुए कहा कि पद और चुनाव आते जाते रहेंगे, राजनीतिक मर्यादा की जिम्मेदारी सबकी है। वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी कार्यालय में संबोधन को लेकर जीतू पटवारी ने कहा कि कोन इतना गिर सकता है भगवान ही मालिक! बेशर्मी की पराकाष्ठा!

बता दें कि गुरुवार को भोपाल में राजभवन में सादगी और गरिमामय समारोह में प्रभारी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 28 नये मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी। इस विस्तार में सिंधिया खेमे से 9 और कांग्रेस से भाजपा में आए तीन चेहरों सहित बीजेपी के 16 विधायक को जगह मिली। इसी के साथ बीजेपी के कई पूर्व मंत्रियों को मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिल पायी है। वहीं नवनियुक्त मंत्रिमंडल में करीबन 41% मंत्री अब सिंधिया समर्थक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here