पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता बूटा सिंह का निधन, राहुल गाँधी ने जताया शोक

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता बूटा सिंह कई महीनों से बीमार चल रहे थे।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देशभर के लिए शनिवार को कांग्रेसी खेमे से एक दुखद खबर सामने आई है। जहां पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता सरदार बूटा सिंह (Buta singh) का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया है।

दरअसल पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता बूटा सिंह कई महीनों से बीमार चल रहे थे। जिसके पास 86 वर्ष की उम्र में नई दिल्ली (New Delhi) में उनके निधन की बड़ी खबर सामने आई है।

ज्ञात हो कि बूटा सिंह भारत के राजस्थान राज्य के जालौर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र से चार बार सांसद निर्वाचित किए गए थे। इसके अलावा वह भारत के गृह मंत्री (ome minister) भी रहे हैं और साथ ही बिहार के राज्यपाल (governer) के पद पर भी रह चुके हैं। बूटा सिंह बड़े किसान नेता भी कहे जाते हैं। वर्ष 1934 जालंधर जिले में जन्मेे बूटा सिंह राष्ट्रीय राजनीति का एक बड़ा नाम थे। वह आठ बार लोकसभा के लिए चुने गए थे।

बता दें कि बूटा सिंह को दलितों का मसीहा कहा जाता था। इसके साथ ही वह नेहरू और गांधी परिवार के विश्वासपात्र भी रहे। अपनी राजनीतिक कार्यकाल के दौरान उन्होंने भारत सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्री, कृषि मंत्री, खेल मंत्री, रेल मंत्री सहित बिहार के राज्यपाल और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला था। वहीं कांग्रेस पार्टी के उत्थान में बूटा सिंह का एक बड़ा हाथ माना जाता था। बूटा सिंह जनसेवक के साथ-साथ एक अच्छी छवि वाले नेता कहे जाते थे। वही उनके निधन पर कांग्रेस पार्टी ने शोक व्यक्त किया है।

वही सरदार बूटा सिंह के निधन पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (rahul gandhi) ने शोक जताया है राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि बूटा सिंह एक सच्चे जनसेवक और निष्ठावान नेता थे। जिसे कांग्रेस ने खो दिया। इसके साथ ही राहुल गांधी ने लिखा कि बूटा सिंह ने अपना पूरा जीवन देश की सेवा और जनता की भलाई के लिए समर्पित किया है। उन्हें सदैव याद रखा जाएगा।

इसके साथ ही साथ केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावेडकर (prakash javedkar) ने भी बूटा सिंह के निधन पर शोक जताते हुए उनके परिवार के साथ इस मुश्किल घड़ी में खड़े रहने की बात कही है।