सब इंस्पेक्टर द्वारा अपहरण की गई युवती को डीजीपी-एसपी कोर्ट में प्रस्तुत करें, हाईकोर्ट का आदेश

जबलपुर, डेस्क रिपोर्ट। सब इंस्पेक्टर द्वारा अपहृत की गई युवती के मामले में मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने डीजीपी व रीवा एसपी को आदेश दिया है, कि सब इंस्पेक्टर द्वारा अपह्रत की गई युवती को मुक्त कराकर 8 अक्टूबर को सुबह 10 बजे कोर्ट में प्रस्तुत करें, जिससे अपहरण हुई युवती अपने परिजनों से मिल सके। मामला रीवा शहर के सिटी कोतवाली थाना में पदस्थ सब इंस्पेक्टर सौरभ सोनी निवासी मोतीलाल नेहरु कोतवाली जबलपुर 16 सितम्बर से फरार है, सब इंस्पेक्टर पर आरोप है कि शहर के पडऱा शांति बिहार कालोनी निवासी 25 वर्षीय इंजीनियर युवती रमा गोविंद पैलेस में अप्रेंटिस करते वक्त सब इंस्पेक्टर के संपर्क में आई।

MP को मिलेगी करोड़ों रूपए की सौगात, CM Shivraj इस जिले को देंगे बड़ा लाभ

इसके बाद 16 सितम्बर को फरार होकर सौरभ सोनी के साथ जबलपुर चली गई, इस मामलें में युवती के परिजनों का आरोप है कि सब इंस्पेक्टर ने युवती का अपहरण किया है, यहां तक युवती के परिजनों ने यह भी आरोप लगाया कि सब इंस्पेक्टर पहले भी दो युवतियों को इसी तरह अपने चंगुल में फंसा चुका है, अब उनकी बेटी का अपहरण कर अपने जबलपुर स्थित आवास में रखा है, और इस मामले की शिकायत के बाद भी पुलिस के अधिकारी मदद नहीं कर रहे है, जिससे परेशान होकर हाईकोर्ट में रिट याचिका लगाई है।

जबलपुर में कांग्रेस की जन अधिकार यात्रा, महंगाई डायन भी हुई शामिल, कार्यक्रम छोड़ लोगों ने ली सेल्फी

यहां तक कि यहां से जाने के बाद युवती अपने परिजनों से बात नहीं कर रही है, साथ ही अनहोनी की आशंका को लेकर सिविल लाइन थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई, लेकिन पुलिस ने मदद नही की, अंतत: 21 व 23 सितम्बर को युवती के परिजनों ने शिकायती आवेदन देकर कार्यवाही की मांग, फिर परिजनों ने 4 अक्टॅूबर को बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका हाईकोर्ट में दायर की, पैरवी आलोक मिश्रा व कुमदी रानी मिश्रा ने की, बहस के दौरान याचिकाकर्ता की तरफ से प्रमुख सचिव गृह विभाग, डीजीपी भोपाल एवं एसपी-कलेक्टर रीवा, जबलपुर को आदेशित किया है कि पुलिस उपनिरीक्षक सौरभ सोनी द्वारा अगवा की गई इंजीनियर युवती को मुक्त कराया जाए। साथ ही 8 अक्टूबर की सुबह 10 बजे जबलपुर हाईकोर्ट में जस्टिस विशाल मिश्रा की कोर्ट में प्रस्तुत करें।