NEET UG 2024: नीट यूजी परीक्षा रद्द करने से SC ने किया इनकार, नहीं रुकेगी काउन्सलिंग, NTA को नोटिस जारी, मांगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट ने एनटीए को नोटिस जारी करके नीट यूजी रिजल्ट को लेकर जवाब मांगा। परीक्षा रद्द करने की मांग से इनकार कर दिया है।

supreme court

NEET UG 2024: नीट यूजी पेपर लीक मामले में बड़ी अपडेट सामने आई है। मंगलवार को हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा रद्द करने से इनकार कर दिया है। साथ ही जस्टिस विक्रम नाथ और अहसानूद्दीन अमानुल्लाह की अवकाशकालीन पीठ ने राष्ट्रीय सह पात्रता प्रवेश परीक्षा की काउन्सलिंग पर भी रोक नहीं लगेगी। एमबीबीएस, बीडीएस, आयुष और अन्य कोर्स में दाखिले के लिए काउन्सलिंग का आयोजन किया जाएगा। न्यायालय ने नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) को नोटिस जारी करके परिणाम को लेकर जवाब भी मांगा है।

काउन्सलिंग पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट ने किया इनकार

नीट यूजी परीक्षा के परिणाम को लेकर छात्र और अभिभावक नाराज चल रहे हैं। छात्रों के एक समूह ने परीक्षा रद्द करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। सिस्टम पर गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए रिजल्ट वापस लेने और सख्त कार्रवाई को लेकर याचिका दर्ज करवाई गई। पेपर लीक के अलग-अलग मामले याचिककर्ताओं के संज्ञान में आए हैं। तेलंगाना और आंध्रप्रदेश निवासी अब्दुल्लाह मोहम्मद फैज और शैंक रोशन मोहिद्दीन द्वारा काउन्सलिंग रोकने की याचिका दायर की थी। कोर्ट ने काउन्सलिंग पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। इससे पहले 1 जून को शिवांगी मिश्रा और बनाम से भी पेपर लीक को लेकर याचिका दायर की थी। हालांकि एनटीए ने पेपर लीक से इनकार कर दिया है।

अगली सुनवाई 8 जुलाई को

सुप्रीम कोर्ट ने नीट यूजी परीक्षा से संबंधित अन्य याचिकाओं को भी जोड़ दिया है। जिसपर 8 जुलाई को सुनवाई की जाएगी।

समय से पहले जारी हुआ रिजल्ट, एक ही सेंटर के 6 लोग टॉपर

दें कि 5 मई को देशभर के विभिन्न शहरों में नीट यूजी परीक्षा का आयोजन हुआ था। एनटीए  4 जून को रिजल्ट घोषित किए थे। हालांकि शेड्यूल के मुताबिक परिणाम जारी करने की तारीख 14 जून 2024 थी। 67 उम्मीदवारों को 720 में से 720 अंक मिले। एक ही एग्जाम सेंटर के 6 अभ्यर्थियों ने टॉपर भी किया। जिसे लेकर लोगों ने परीक्षा में धांधली के आरोप लगाए। इस मामले में एनटीए ने छात्रों को परीक्षा केंद्र में समय की हानि होने ग्रेस अंक देने की बात भी कही। इन मामलों पर लोग कई सवाल उठा रहे हैं।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News