उज्जैन टीआई की मौत के बाद शिवराज सरकार का बड़ा ऐलान

भोपाल/उज्जैन।
उज्जैन के नीलगंगा थाना प्रभारी यशवंत पाल के निधन के बाद शिवराज सरकार ने बड़ा ऐलान किया है।शिवराज सरकार ने 50 लाख रुपए, बेटी को सरकारी नियुक्ति और पाल को कर्मवीर पदक से सम्मानित करने का ऐलान किया है।

दरअसल, यशवंत पाल के निधन पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘दुख की इस घड़ी में दिवंगत यशवंत पाल जी के परिवार के साथ मैं वे पूरा प्रदेश खड़ा है।’ शिवराज ने कहा कि COVID19 से लड़ते हुए कर्तव्य की बलिवेदी पर प्राण त्याग देने वाले उज्जैन नीलगंगा के थाना प्रभारी श्री यशवंत पाल जी को विनम्र श्रद्धांजलि! ईश्वर उनकी पुण्य आत्मा को अपने चरणों में स्थान दें व शोकाकुल परिजनों को संबल प्रदान करें। हम सब उनके परिवार के साथ हैं।दु:ख की इस घड़ी में दिवंगत यशवंत पाल जी के परिवार के साथ मैं व पूरा प्रदेश खड़ा है। शोकाकुल परिवार को राज्य शासन की ओर से सुरक्षा कवच के रूप में 50 लाख रुपए, असाधारण पेंशन, बेटी फाल्गुनी को उपनिरीक्षक पद पर नियुक्ति व स्व.पाल को मरणोपरांत कर्मवीर पदक से सम्मानित किया जायेगा।

सिंधिया और कमलनाथ ने जताया शोक
बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर लिखा है कि उज्जैन के नीलगंगा थाना प्रभारी श्री यशवंत पाल जी का कोरोना से लड़ते हुए आज दुखद निधन हो गया। मानवसेवा में शहीद होने वाले कर्तव्यनिष्ठ और वीर योद्धा को मेरा कोटि-कोटि नमन।ईश्वर उनकी आत्मा को शांति और परिवार को ये दुख सहने की शक्ति प्रदान करे। वही पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा है कि बेहद दुःखद ख़बर।आज इंदौर के बाद हमारे उज्जैन के नीलगंगा थाना प्रभारी श्री यशवंत पाल ,जो जनता की सुरक्षा के लिये , ईमानदारी से अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे थे , कोरोना की जंग हार गये।ऐसे कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी की शहादत को सलाम।जब जनता की सुरक्षा के लिये अपनी जान जोखिम में डाल फ़ील्ड में तैनात ऐसे कर्मवीर योद्धा ही हमारे बीच से चले जाते है तो वो बड़ा ही दुःखद पल होता है।परिवार के प्रति मेरी शोक संवेदनाएँ।ईश्वर उन्हें अपने श्री चरणो में स्थान प्रदान करे।

आज सुबह हुई थी टीआई पाल की मौत
59 वर्षीय यशवंत पाल अंबर कॉलोनी कंटेनमेंट इलाके में ड्यूटी लगी थी। ये इलाका कोरोना संक्रमण के कारण कंटेनमेंट घोषित किया गया है। आशंका है कि वहीं ड्यूटी के दौरान उनमें संक्रमण फैला। तबियत ज़्यादा खराब होने के कारण यशवंत पाल को इंदौर के अरबिंदो अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया था। वहीं आज सुबह 5 बजकर 45 पर उन्होंने आखिरी सांस ली। स्व. यशवंत पाल की दो बेटियां हैं, जिनकी उम्र 22 और 20 साल है।नीलगंगा थाना प्रभारी यशवंत पाल पिछले 12 दिनों से अरविंदो हॉस्पिटल में एडमिट थे। हॉस्पिटल के चेयरमैन डॉक्टर विनोद भंडारी ने बताया कि यशवंत पाल जब से आए थे तभी से क्रिटिकल स्थिति में थे। उनकी कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव ही रही।इसके अलावा यशवंत पाल का कोरोना रिजल्ट पॉजिटिव आने के बाद उनकी पत्नी और दोनों बेटियां को एक होटल में क्वारंटाइन किया गया।