ग्वालियर, अतुल सक्सेना।  लोकायुक्त ग्वालियर (Lokayukta Gwalior) की टीम ने नामांतरण कराने की एवज में 20,000 रुपये की रिश्वत मांग रहे भिंड (Bhind)  जिले की मौ तहसील (Mau Tehsil) के एक क्लर्क को रंगे हाथों गिरफ्तार (Clerk Red Handed Arrest) कर लिया। क्लर्क  इलाज कराने ग्वालियर आया था।

ये भी पढ़ें – Indore News- भिखारियों की दीनबंधु पुनर्वास शिविर में बारातियों जैसी आवभगत

लोकायुक्त इंस्पेक्टर आराधना डेविस ने बताया कि भिंड जिले की मौ तहसील में आवेदक हरी सिंह राणा ने पिताजी की मृत्यु के बाद जमीन नामांतरण का आवेदन दिया था।  वहां  पदस्थ क्लर्क श्रीकृष्ण बोहरे इसके लिए रिश्वत की मांग कर रहा था। मामला 20,000 रुपये में तय हुआ। रिश्वत कल मंगलवार को देनी थी लेकिन श्रीकृष्ण का एक्सीडेंट हो गया तो कल रिश्वत की रकम नहीं दी जा सकीय।  वे इलाज के लिए ग्वालियर के एक निजी अस्पताल में आ गए यहाँ आकर उन्होंने हरी सिंह को पैसे लेकर आने के लिए कहा,  और जैसे ही हरीसिंह ने क्लर्क को पैसे दिए वहां पहले से ही तैयार आराधना डेविस साथी इंस्पेक्टर कवीन्द्र सिंह चौहान एवं ब्रजमोहन नरवरिया की टीम ने क्लर्क श्रीकृष्ण बोहरे को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।