ग्राहकों को लगा झटका, मारुति सुजुकी की कारें हुई महंगी, आज से इतनी बढ़ गई कीमत, ये है वजह

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Automobile News: भारत में मारुति सुजुकी का कारोबार बहुत मजबूत है। इसके वाहनों की बिक्री भी खूब होती है। कंपनी ने ग्राहकों को झटका देते हुए कई कारों को महंगा कर दिया दिया। इसकी घोषणा आज 16 जनवरी को Maruti Suzuki ने कर दी है। कीमतों में 1.1% की वृद्धि की गई है। इस बात की जानकारी कंपनी ने एक एक्सचेंज फ़ाइलिंग में दी है। दूसरी तरफ, कंपनी ने अपनी कई कारों से ऑटो एक्सपो 2023 में पर्दा हटाया है। Jinmy और Fronks की बुकिंग भी शुरू हो चुकी है।

ये है वजह

इससे पहले दिसंबर में ही वाहनों के दाम बढ़ने की खबर सामने आई थी। जनवरी से कीमतों में इजाफा होना था। कंपनी ने लागत के प्रभाव को कम करने के लिए और इस साल अप्रैल से लगा सख्त उत्सर्जन मानदंडों के हिसाब मॉडल रेंज को अपडेट करने के लिए यह कदम उठाया है। कंपनी ने अपने बयान में कहा कि रेगुलेटरी आवश्यकताओं को पूरा करने के दबाव में दाम में इजाफा करना महत्पूर्ण निर्णय था। वहीं दिसंबर में कंपनी के मारुति सुजुकी के चेयरमैन ने कहा था कि, यातायात  नियमों का सख्ती से पालन होने पर, सेफ़्टी फीचर्स को बढ़ाने की जरूरत बढ़ेगी। जिसका सीधा असर वाहनों के कीमत पर होगा।

इतनी बढ़ेगी कीमत

मारुति सुजुकी ब्रेजा के लिए अब 10 हजार से 15 हजार तक रुपये अधिक का भुगतान करना होगा। स्विफ्ट के लिए अब 6-10 हजार रुपये अधिक का भुगतान करना होगा। पिछले महीने यानि दिसंबर 2022 में कंपनी के थोक बिक्री में भी गिरावट देखी गई थी। दिसंबर 2021 की तुलना में इस महीने 9 फीसदी की गिरावट हुई थी। वहीं देश में सबसे अधिक बिकने वाली कारों की लिस्ट में एर्टिगा, एक्सएल 6, एस-क्रॉस, ग्रैन्ड विटारा शामिल है। इसके अलावा कई नई वाहनों को लाने की तैयारी भी कर रही है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News