LIC vs SBI: बुढ़ापे में मिलेगी वित्तीय सुरक्षा, नहीं सताएगी पैसों की टेंशन, जानें निवेश के लिए कौन-सा पेंशन प्लान है बेहतर

Manisha Kumari Pandey
Published on -
pension plan

Pension Plan: वरिष्ठ नागरिकों रिटायरमेंट के बाद आरामदायक और सुकून भरे जीवन की इच्छा रखते हैं। अपने सपनों को पूरा करना चाहते हैं। यह ऐसा समय होता है जब कोई व्यक्ति नौकरी और भागदौड़ भरी ज़िंदगी की चिंता से दूर रहकर जीना चाहते हैं। लेकिन यदि रिटायरमेंट की प्लानिंग सही से न हो तो “Golden Years” भी मुश्किलों से भर जाता है। मार्केट में कई प्लांस उपलब्ध हैं जो आपको बुढ़ापे में वित्तीय सुरक्षा की गारंटी देते हैं। एलआईसी और एसबीआई के प्लान बेस्ट पेंशन प्लांस (LIC Pension Plans vs SBI Pension Plans) की गिनती में शामिल हैं। आइए जानें एलआईसी पेंशन प्लान या एसबीआई पेंशन प्लान, इनमें से कौन-सा आपके लिए बेस्ट ऑप्शन है?

एलआईसी के पेंशन प्लांस

एलआईसी जीवन अक्षय VI, जीवन शांति और जीवन निधि पॉलिसी भारतीय जीवन बीमा निगम के बेस्ट पेंशन प्लांस हैं। Jeevan Akshay VI एक इमिडिएट एन्युटि प्लान है। इसमें एकमुश्त निवेश करना होता है। इसमें 30 वर्ष का व्यक्ति भी इनवेस्टमेंट कर सकता है। निवेश की न्यूनतम सीमा 1 लाख रुपये और अधिकतम 15 लाख रूपये होती है। हालांकि इसमें अलग-अलग एन्युटि ऑप्शन मिलते हैं। दूसरा प्लान Jeevan Nidhi Policy है। इस प्लान में पेंशन के साथ-साथ डेथ कवर का लाभ भी मिलता है। निवेशक इमिडिएट एन्युटि का विकल्प भी चुन सकते हैं। वहीं जीवन शांति पॉलिसी में मासिक आय की गारंटी मिलती है  यदि आप जिंदगी भर इनकम चाहते हैं तो यह प्लान बेहतर विकल्प बन सकता है। निवेश की कोई सीमा नहीं होती। निवेश के लिए 10 विकल्प मिलते हैं।

Continue Reading

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"