Paytm News: पेटीएम पेमेंट्स बैंक को इस खास सिस्टम के लिए मिली RBI की मंजूरी, ग्राहकों को होगा फायदा

Paytm Payments Bank: पेटीएम देश में लेन-देन और बिल भुगतान के लिए बड़ा प्लेटफॉर्म है। देखा जाए तो यह आम जीवनशैली का एक अहम हिस्सा बन चुका है। सोमवार यानि 16 जनवरी 2023 को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक को लेकर बड़ा निर्णय लिया है। आरबीआई ने इस बिल पेमेंट्स ऑपरेटिंग यूनिट (BBPU) के रूप में काम करने की अंतिम मंजूरी दे दी है। इस बात की जानकारी खुद कंपनी ने दी है।

बीबीपीयू के रूप में करेगा काम

जानकारी के लिए बता दें कि भारत बिल पएमेटस सिस्टम के तहत डीटीएच, क्रेडिट कार्ड बिल, गैस, पानी, लोन, बिजली, फोन, नगरपालिका और फास्टटैग रिचार्ज के बिल का भुगतान करने की अनुमति मिलती है। इसका स्वामित्व नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया करता है। हालांकि पहले भी पेटीएम पर ये सारी सुविधाएं थी, लेकिन अब तक यह सिस्टम पेटीएम पेमेंट बैंक पर सेंट्रल बैंक द्वारा दी गई सैद्दांतिक अनुमति के अंतर्गत मिल रहा है। लेकिन अब इसे भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम 2007 के तहत बीबीपीयू के तौर पर काम करने की मंजूरी मिल चुकी है।

इस सुविधा का मिलेगा लाभ

बता दें कि PPBL पर दिसंबर 2022 में 1.3 अरब से अधिक का ट्रैन्जैक्शन हुआ था। जो अन्य बड़े UPI बैंकों के मुकाबले बहुत ज्यादा है। आरबीआई इसके साथ अन्य एजेंट संस्थानों को भी अपने वेबसाईट पर प्रदर्शित करेगा। इस बात की जानकारी देते हुए कंपनी ने कहा कि Paytm ऐप के जरिए यूजर्स अपने बिलों को अपनी सहूलियत के हिसाब से भर सकेंगे। इसके अलावा उन्हें ऑटोमैटिक पेमेंट और रिमाइंडर की सुविधा भी प्रदान की जाएगी।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News