RBI MPC Meeting: 8 अगस्त से शुरू होगी आरबीआई की एमपीसी बैठक, रेपो रेट पर आ सकता है बड़ा फैसला

Manisha Kumari Pandey
Published on -

RBI MPC Meeting: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (Reserve Bank Of India) की मौद्रिक नीति समिति बैठक (Monetary Policy Committee Meeting) का आयोजन  8 अगस्त से होने जा रहा है। तीन दिवसीय बैठक का समापन 10 अगस्त को होगा। बैठक का आयोजन आरबीआई के गवर्नर की अध्यक्षता में होगा, इस दौरान 6 अन्य सदस्य भी मौजूद रहेंगे। कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा होगी। रेपो रेट को लेकर भी कोई बड़ा फैसला आ सकता है।

बता दें कि अप्रैल और जून में आयोजित मौद्रिक नीति समिति बैठक के दौरान रेपो रेट को स्थिर रखने का निर्णय लिया गया था। आखिरी बार इस साल फरवरी के एमपीसी बैठक में रेपो रेट में 0.25 फीसदी की वृद्धि की गई थी। वर्तमान में दरें 6.50 फीसदी है। विशेषज्ञों के मुताबिक इस बार भी आरबीआई ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं करेगा। हालांकि अमेरिकी फेडरल रिजर्व और यूरोपीय सेंट्रलबैंक द्वारा बेंचमार्क में इजाफा किया गया।

कोटक महिंद्रा बैंक की चीफ इकोनॉमिस्ट उपासना भारद्वाज का कहना है कि, “2000 रुपये के नोट को वापस लेने के बाद लिक्विडीटी की हालत अनुकूल है। उम्मीद हैं कि आरबीआई वर्तमान में ब्याज दरों में बदलाव नहीं करेगा।” वहीं आईसीआरए की चीफ इकोनॉमिस्ट अदिति नायर के मुताबिक सब्जियों के कीमत में बढ़ोत्तरी से जुलाई में खुदरा मुद्रास्फीति 6% से ऊपर पहुँचने की संभावना है। इस तिमाही का औसत दूसरी तिमाही के नए अनुमान से अधिक होगा, जिसे एमपीसी बैठक जून में जारी किया गया था। जिसके परिणामस्वरूप उम्मीद है कि रेपो रेट पर निरंतर रोक के साथ एमपीसी की तीखी टिप्पणी आ सकती है।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News