Sarkari Yojana: बेटियों के लिए केंद्र सरकार की खास योजना, मिलेगा छात्रवृति का लाभ, जानें कैसे करें आवेदन

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Sarkari Yojana: बेटियों के हित में केंद्र सरकार की कई योजनाएं चलाती जिसमें से बालिका समृद्धि योजना (Balika Samridhi Yojana ) है। स्कीम के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले सभी परिवार की लड़कियों के लिए शुरू की गई है। योजना के तहत बालिका के जन्म के समय से लेकर पढ़ाई पूरी होने तक आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

जन्म से लेकर पढ़ाई तक मिलेगी आर्थिक मदद

बालिका के जन्म के समय योजना के तहत 500 रुपये की आर्थिक सहायता राशि सरकार की ओर से दी जाती है। स्कीम के तहत रजिस्टर्ड बालिकाओं को 300 रुपये से लेकर 1000 रुपये की छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है।  कक्षा 1 से लेकर 3 तक 300 रुपये, कक्षा 4 में प्रवेश करने पर 500 रुपये, कक्षा पांचवी के लिए 600 रुपये, सातवीं के लिए 700 रुपये, आठवीं के लिए 800 रुपये और कक्षा 9वीं-10वीं के के लिए 1000 रुपये की राशि प्रदान की जाती है।

ऐसे उठायें लाभ

बीपीएल रेखा के अंतर्गत आने वाले परिवार की 2 बलिकाएं स्कीम का लाभ उठा सकती हैं। ग्रामीण क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले सभी परिवार आँगनबाड़ी केंद्र जाकर आवेदन कर सकते हैं। आवेदन की सुविधा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भी उपलब्ध होती है। इसके लिए राशन कार्ड, आधार कार्ड, पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ, मोबाइल नंबर, प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र, पहचान पत्र और निवास प्रमाण पत्र की आवश्यकता पड़ती है।
बता दें कि बालिका समृद्धि योजना की शुरुआत वर्ष 1997 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा शुरू की गई थी। योजना का उद्देश्य देश की बालिकाओं को आत्मनिर्भर बनाना है।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News