CBSE Board Exam: छात्रों के लिए बड़ी अपडेट, मूल्यांकन प्रक्रिया में सीबीएसई करने जा रहा है बड़ा बदलाव, जानें

Manisha Kumari Pandey
Published on -
Agniveer Bharti 2023

CBSE Board Exam 2023: इस साल सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाओं में शामिल होने वाले छात्रों के लिए यह खबर बहुत काम की साबित हो सकती है। फिलहाल, 10वीं और 12वीं कक्षा की परीक्षाएं चल रही है। इसी बीच मूल्यांकन प्रक्रिया को लेकर बड़ी अपडेट सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकन्डेरी एजुएशन कॉपी चेकिंग की प्रक्रिया में बड़ा बदलाव करने जा रहा है। जिसके तहत कॉपियों की जांच की क्वालिटी में सुधार होगा।

मूल्यांकन नियमों में होगा बदलाव

रिपोर्ट के मुताबिक मूल्यांकन प्रक्रिया की गुणवत्ता को जाँचने के लिए सीबीएसई अनुभवी शिक्षकों की नियुक्ति कर सकता है। पीजीटी शिक्षक एडिशनल हेड एग्जामिनर पद के लिए पात्र होंगे। नए नियमों के तहत एक एग्जामीनर को विज्ञान के लिए (कमेस्ट्री, फिजिक्स और बायोलॉजी) होगा। तो अन्य एग्जामिनर को सोशल साइंस यानि हिस्ट्री, भूगोल, ग्राफिक्स और पॉलिटिकल साइंस के लिए हायर किया जाएगा।

ये है बदलाव का कारण

माना जा रहा है कि बोर्ड यह मदद कॉपियों के चेकिंग प्रक्रिया में  पारदर्शिता लाने के लिए उठा रहा है। परीक्षा खत्म होने के कुछ दिनों के बाद ही मूल्यांकन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। बोर्ड के इस निर्णय के Evaluation Process की क्वालिटी भी बढ़ेगी, जिसकी जिम्मेदारी हेड एग्जामिनर की होगी।

आज है हिन्दी का पेपर

बता दें कि कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं 15 फरवरी, 2023 से ही शुरू हो चुकी हैं। आज 12वीं का हिन्दी पेपर आयोजित किया गया है। जिसमें हजारों छात्र शामिल होंगे। परीक्षा सिंगल शिफ्ट में आयोजित होगी, जिसकी टाइमिंग सुबह 10:30 बजे से लेकर दोपहर 1:30 बजे तक है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News