5वीं-12वीं के छात्रों के लिए नेशनल ऑटोमोबाइल Olympiad शुरू, CBSE ने लिखा स्कूलों को पत्र, 31 अगस्त तक करें रजिस्ट्रेशन 

सीबीएसई ने नेशनल ऑटोमोबाइल ओलंपियाड को लेकर नोटिस जारी किया है। कक्षा 5वीं से 12वीं के छात्र इस प्रोग्राम में भाग ले सकते हैं।

cbse news

National Automobile Olympiad: केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने नेशनल ऑटोमोबाइल ओलंपियाड को लेकर  बोर्ड द्वारा मान्यता प्राप्त सभी स्कूलों को पत्र लिखा है। कक्षा पांचवी से लेकर 12वीं के छात्रों को इस प्रोग्राम में भाग लेने के लिए आमंत्रित भी किया है। सीबीएसई ने स्कूलों से प्रिंसिपल  से आग्रह किया है कि वे छात्रों को अधिक से अधिक संख्या में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करें।

ओलंपियाड के बारे में

नेशनल ऑटोमोबाइल ओलंपियाड एक फ्री और ओपन प्रोग्राम है, जिसे ऑटोमेटिक स्किल डेवलपमेंट काउंसलिंग द्वारा लॉन्च  किया गया है। इस प्रोग्राम का मुख्य उद्देश्य छात्रों के बीच ऑटोमोटिव स्किल को बढ़ावा देना है। यह ओलंपियाड उन छात्रों के लिए एक प्लेटफार्म बेहतरीन प्लेटफार्म है, जो ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में अपने ज्ञान, विशेषज्ञता और प्रॉब्लम सॉल्विंग क्षमता  का प्रदर्शन करना चाहते हैं। इस प्रोग्राम में सैद्धांतिक मूल्यांकन, व्यवहारिक प्रदर्शन और विभिन्न प्रकार की गतिविधियों को शामिल किया गया है। इस प्रोग्राम के जरिए छात्रों को ऑटोमोटिव इंडस्ट्री के विशेषज्ञ से जुड़ने का अवसर भी मिलेगा। साथ ही इस क्षेत्र में करियर को लेकर वे छानबीन कर सकते हैं।

 रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि 31 अगस्त 

रजिस्ट्रेशन करने अंतिम तिथि 31 अगस्त है। स्कूल https://nao.asdc.org.in/#/regSchool पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। वहीं छात्र https://nao.asdc.org.in/#/RegCandidate पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

तीन ग्रुप में होगी प्रतियोगिता

ओलंपियाड के टारगेट दर्शक को तीन ग्रुप में बांटा गया है। ग्रुप एक में कक्षा 6, 7 और 8 को शामिल किया गया है। ग्रुप 2 में कक्षा 9-10 और ग्रुप 3 में 11वीं-12वीं को शामिल किया जाएगा।

प्रोग्राम का शेड्यूल

राउंड वन का  जून से लेकर सितंबर के बीच में किया जाएगा। वहीं  रीजनल राउंड का आयोजन अक्टूबर से नवंबर के बीच होगा। फाइनल राउंड  दिसंबर में आयोजित किया जाएगा

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News