करवा चौथ : इस दिन भूलकर भी न करें सुहागिनें यह काम

    डेस्क रिपोर्ट।  कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का व्रत किया जाता है। पति की लंबी आयु के लिए रखा जाने वाला यह व्रत सुहागनों के लिए किसी पर्व से क नहीं है, सनातन धर्म में करवा चौथ सुहागन महिलाओं के लिए एक महत्वपूर्ण त्योहार माना गया है। इस दिन शादी-शुदा महिलाएं सोलह शृंगार कर मां करवा की पूजा अर्चना करती हैं  सूर्योदय के समय सरगी ग्रहण करने के बाद सुहागन पूरे दिन निर्जला (बिना पानी) रहती हैं और चंद्रोदय होने पर अर्घ्य देने के बाद उपवास का पारण करती हैं। इस बार करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर, 2022 दिन गुरुवार को रखा जाएगा। हालांकि दिनभर निर्जला रहने वाली सुहागनें खुद को व्यस्त रखती है, इसके साथ ही उन्हे इस खास दिन कुछ कामों की मनाही रहती है। आइए हम आपको बताते है क्या है वो काम।

    यह भी पढ़ें…. Karwa Chauth 2022 : करवा चौथ पर वाइफ को दें ये आकर्षक गिफ्ट, घरेलू हों या कामकाजी सभी को आएंगे पसंद

    करवा चौथ पर न पहनें काले और सफेद रंग के कपड़े
    करवा चौथ के दिन काले रंग के कपड़े नहीं पहनना चाहिए, काले रंग के कपड़े पहनना कुछ लोगों को काफी पसंद होता है लेकिन पूजा-पाठ और शुभ कार्यों में काले रंग को वर्जित माना गया है, इसलिए ये बात करवा चौथ के दिन भी ध्यान रखनी चाहिए। सुहागनों को इस दिन काले रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए। इसके अलावा सफेद रंग के कपड़े भी भूलकर न पहनें।

    सुबह जल्दी उठना जरूरी है इस दिन 
    करवा चौथ के दिन सरगी लेने की परंपरा है, ऐसे में देर तक नहीं सोना चाहिए और सूर्योदय से पहले ही स्नान आदि कर लेना चाहिए। इसके अलावा दिन के समय भी नहीं सोना चाहिए।

    इस दिन इन चीजों का न करें दान और न सिले कपड़े 

    करवा चौथ का दिन वैसे तो काफी शुभ होता है, लेकिन इस दिन कुछ चीजों का दान नहीं करना चाहिए। दरअसल इस दिन सफेद वस्तुओं का दान करना शुभ नहीं माना जाता है, इसलिए से इस दिन सफेद वस्तुओं के बचना चाहिए। करवा चौथ पर दूध, सफेद कपड़े, चावल और सफेद मिठाई जैसी चीजें दान में नहीं देनी चाहिए। इसके साथ ही इस दिन व्रतधारी महिलाओं को हाथ में सुई नहीं लेनी चाहिए या कोई भी कपड़ा नहीं सिलना चाहिए।

    झगड़ा, अपशब्द बोलने से बचें
    घर और परिवार में इस दिन शांति बनाए रखनी चाहिए। खास तौर पर सुहागन महिलाएं जिन्होंने करवा चौथ का व्रत रखा हो, उन्हें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि झगड़ा न करें और न ही किसी तरह का अपशब्द बोलें। इसके अलावा किसी का भी अपमान करने से बचें।