सीएम शिवराज के अधिकारियों को कड़े निर्देश, महत्वपूर्ण घोषणा- जल्द होगी 5 हजार पुलिस की भर्ती

समीक्षा बैठक के दौरान सीएम शिवराज ने शराब की दुकानों की पूजा स्थल स्कूल और महाविद्यालय से दूरी के संबंध में भी आवश्यक नियम को कड़ाई से पालन के निर्देश दिए हैं।

MP Shivraj Government

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) का एक्शन मोड जारी है। दरअसल सीएम शिवराज लगातार अपराधियों को किसी भी कीमत पर ना छोटी और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की वकालत करे हैं। साथ ही जल्द MPPEB के तहत 5 हज़ार पुलिस की भर्ती की जाएगी। पुलिस की गतिविधियों की तारीफ करते हुए उन्होंने अपराधियों के खिलाफ इंदौर-रतलाम, भोपाल, उज्जैन, सिवनी, रीवा और शहडोल जैसी जगह पर अपराधियों के विरुद्ध कार्यवाही करने पर बधाई दी है। उन्होंने कहा कि इस तरह की कार्रवाई जारी रहेगी। बहन बेटियों के विरुद्ध अपराध करने वाले को आर्थिक नुकसान पहुंचाने के साथ ही साथ उन्हें सजा दिलाई जाएगी।

CM Shivraj ने कहा कि अपराधियों पर चौकसी और शक्ति के लिए पर्याप्त पुलिस बल की आवश्यकता पड़ रही है। जल्दी मध्यप्रदेश में पुलिस फोर्स के 5000 पुलिस जवानों की भर्ती की जाएगी। बड़ी घोषणा करते हुए CM Shivraj ने कहा कि MPPEB पुलिस भर्ती में 50 फीसद अंक फिजिकल-  50% लिखित परीक्षा के होंगे। पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए अद्भुत तकनीक का उपयोग किया जाएगा।

समीक्षा बैठक के दौरान सीएम शिवराज ने शराब की दुकानों की पूजा स्थल स्कूल और महाविद्यालय से दूरी के संबंध में भी आवश्यक नियम को कड़ाई से पालन के निर्देश दिए हैं। ऐसे स्थलों से दूरी ही शराब की दुकानें होनी चाहिए। स्कूल महाविद्यालय और पूजा स्थल के आसपास शराब की दुकानें रखने वाले पर कार्रवाई की जाएगी। सीएम शिवराज ने प्रदेश में अवैध रूप से रह रहे विदेशी नागरिकों को चिन्हित करने पर भी निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि तत्काल सघन सर्च ऑपरेशन आरंभ किया जाए।

Read More : जबलपुर में दूध के दाम बढ़े, अब 62 रुपये लीटर दूध

CM शिवराज ने कहा कि वैसे मकान मालिक जिन्होंने अपने किराएदार के संबंध में पुलिस को सूचना नहीं दिए उन पर कार्रवाई की जाए साथ ही अवैध हथियार रखने वाले अवैध हथियार निर्माताओं के विरुद्ध भी छानबीन अभियान शुरू किया जाए वही माफिया गतिविधि में संलिप्त अपराधियों और उनके सहयोगी और संरक्षण देने वालों की पहचान कर भी उनके खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाए।

बड़ी घोषणा करते हुए सीएम शिवराज ने कार्रवाई के निर्देश दिए उन्होंने कहा कि प्रदेश में अवैध शराब के विरुद्ध माइक्रो लेवल पर ग्राम मोहल्ला स्तर तक सदन कार्यवाही की जाए पुलिस का कोई भी व्यक्ति अवैध शराब में लिप्त रहता है या उसे संरक्षण मिलता है तो उसे तत्काल नौकरी से बाहर कर दिया जाएगा। इसके अलावा उन्होंने चिटफंड कंपनियां पंजीकृत इन्वेस्टमेंट मल्टी लेवल मार्केटिंग मार्केटिंग कंपनी पर ब्याज पर पैसा चलाने वाली कंपनियों पर भी सघन निगरानी के निर्देश दिए हैं।

सीएम शिवराज ने कहा कि सामाजिक समरसता को बिगाड़ने के लिए सोशल मीडिया सहित अन्य प्रचार माध्यमों पर भ्रामक जानकारी आने पर उसके तत्काल खंडन की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। समाज के विभिन्न वर्गों को दिग्भ्रमित करने वाले और विघटनकारी संगठनों पर लगातार कड़ी निगरानी रखना, उनके दुष्प्रचार का तत्काल प्रतिकार करना एवं उनके विरूद्ध प्रभावी कानूनी कार्यवाही सुनिश्चित की जाए।

सीएम ने कहा कि परित्यक्त तथा निराश्रित महिलाओं और बच्चों को आवश्यक सुरक्षा व संबल प्रदान करने के लिए पुलिस, महिला-बाल विकास तथा सामाजिक न्याय विभाग द्वारा संयुक्त रूप से कार्य-योजना बनाई जाए। मंदिर में प्रवेश से वर्जित करने, बारात नहीं निकालने देने, कुंए से पानी नहीं भरने देने जैसी गतिविधियों पर तत्काल अंकुश लगाया जाए।

सीएम शिवराज ने कहा कि प्रदेश में नशा मुक्ति अभियान शुरू किया जाएगा। 26 जून नशा मुक्ति दिवस पर ग्राम स्तर तक नशे के विरुद्ध जागरूकता अभियान चलाए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सेना में भर्ती के लिए प्रदेश के युवाओं को प्रशिक्षित करने के उद्देश्य से सभी पुलिस प्रशिक्षण शाला में आवश्यक व्यवस्था की जाए। इसके अलावा गुड सेमिरिटन एक्ट के तहत सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति को अस्पताल पहुंचाने वालों को प्रोत्साहन राशि देने की व्यवस्था कभी प्रचार प्रसार किया जाए।

आगामी दो वर्ष में अपराध नियंत्रण और पुलिस आधुनिकीकरण की कार्य-योजना के अंतर्गत गतिविधियों की जानकारी में प्रमुख बिन्दु है :-

  • चिन्हित अपराधों में विवेचना के मानक तैयार करते हुए चैकलिस्ट का निर्माण।
  • थाना स्तर पर बीट की व्यवस्था में आरक्षक और प्रधान आरक्षक को बीट प्रभारी बनाने की पहल।
  • थाने में व्यक्ति के आने पर उसका फीडबैक लेने की व्यवस्था।
  • प्रदेशव्यापी औचक नाईट कोबिंग ऑपरेशन चलाने की योजना।
  • जेल से रिहा अपराधियों के क्रियाकलापों की सतत् निगरानी।
  • अपराधियों का डिजिटल रिकार्ड रखना।
  • ऑपरेशन प्रहार के अंतर्गत आदतन यौन अपराधियों के‍विरूद्ध सख्त वैधानिक कार्यवाही।
  • अफीम की फसल की निगरानी में सेटेलाईट तकनीक का उपयोग।
  • ई-विवेचना एप शेष 785 थानों में आरंभ करना।
  • पुलिस कर्मियों के लिए वार्षिक स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था।
  • भोपाल में सर्वसुविधायुक्त 50 बेडेड पुलिस अस्पताल का निर्माण।
  • पुलिस में महिलाओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए बड़ी पुलिस इकाइयों में झूलाघर की स्थापना।

समीक्षा बैठक में माफिया के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही सही थाना व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण अनुसूचित जाति व जनजाति कल्याण सहित नारकोटिक्स साइबर अपराध और सुरक्षा सहित पुलिस प्रशिक्षण और अन्य गतिविधियों सहित चयन और भर्ती परीक्षा के संबंध में चर्चा की गई।

वही बैठक में जानकारी देते हुए पुलिस महानिदेशक सुधीर सक्सेना ने बताया कि नरेंद्र मोदी के स्मार्ट पुलिस टीम की अवधारणा को मध्यप्रदेश में सफल किया जा रहा है। वहीं सीएम शिवराज की प्राथमिकता के अनुसार कार्य जारी है। पुलिस में 3 आधार स्तंभ विभिन्न प्रकार के माफी और अपराधियों के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई करें। इसके अलावा आम नागरिकों से जुड़ा हो जन जागरूकता और प्रचार प्रसार सहित पुलिसकर्मियों के कौशल संवर्धन पर भी कार्य किया जा रहा है।