कांग्रेस नेता ने बताया अरुण यादव को हजार एकड़ जमीन का मालिक, बीजेपी ने उठाये सवाल

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने अपनी ही पार्टी के बड़े नेता अरुण यादव को एक हजार एकड़ जमीन का मालिक बता दिया है। बीजेपी ने इस पर सवाल उठाते हुए कहा है कि अब यादव को इस बात का जवाब देना चाहिए कि असलियत क्या है।

दमोह जिले के पर्यटन स्थलों का होगा विकास, केंद्रीय मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल के प्रयासों से शुरू हुए कार्य

कांग्रेस नेता ने बताया अरुण यादव को हजार एकड़ जमीन का मालिक, बीजेपी ने उठाये सवालकांग्रेस में गुटबाजी किस कदर हावी है, इसका नमूना गुरुवार को भोपाल मे चुनावी तैयारियों को लेकर चल रही बैठक के दौरान देखने को मिला। यह बैठक खंडवा लोकसभा उपचुनाव सहित जोबट, रैगांव और पृथ्वीपुर के विधानसभा उप चुनावों की तैयारियों के लिए बुलाई गई थी। इस बैठक में मध्य प्रदेश के प्रभारी मुकुल वासनिक और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ सहित सभी लोग मौजूद थे जिन्हें चुनावों में प्रभारी बनाया गया है। लेकिन हैरत की बात रही पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रह चुके अरुण यादव की अनुपस्थिति।

दरअसल खंडवा सीट से अरुण यादव प्रमुख दावेदार बताए जा रहे हैं। लेकिन इस बैठक में उनकी अनुपस्थिति ने कई सवाल खड़े कर दिये है। पहला, क्या खुद अरुण यादव अब कांग्रेस से टिकट नहीं चाहते? दूसरा, क्या कमलनाथ से उनके मतभेद इस कदर हो गए हैं कि अब वे आर पार की लड़ाई के मूड में है? और तीसरा यह, कि क्या अरुण यादव बगावती तेवर अपना सकते हैं? इन सवालों को हवा तब मिली जब कमलनाथ के खासम खास माने जाने वाले सज्जन वर्मा ने बैठक में उनकी अनुपस्थिति पर तंज कर दिया। उन्होंने कहा कि ‘अरुण यादव को अब राजनीतिक खेती करनी चाहिए क्योंकि वे खेती और राजनीति में बराबर है।’ अरुण यादव की संपत्ति का ब्यौरा देते हुए उन्होंने उन्हें एक निजी कॉलेज और 1000 एकड़ जमीन का मालिक तक बता दिया। हालांकि जब एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ ने चुनावों के दौरान अरुण यादव के द्वारा दिया गया संपत्ति का घोषणा पत्र देखा तो वे कृषि और गैर कृषि दोनों भूमि मिलाकर केवल 59.088 एकड़ भूमि के स्वामी निकले।

अब सवाल यह है कि क्या अरुण यादव ने घोषणा पत्र में जानकारी छिपाई या सज्जन वर्मा ने बिना सच जाने उन पर आरोप जड़ दिया। यदि ऐसा है तो यह तो सीधे-सीधे मानहानि का मामला बनता है और आखिर अपने ही नेता के ऊपर घोषित संपत्ति से ज्यादा संपत्ति होने की बात कहकर सज्जन वर्मा साबित क्या करना चाहते हैं? बीजेपी ने इस मामले में तंज कसा है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता डॉक्टर हितेश वाजपेई ने कहा है कि आज जिस तरह से सज्जन वर्मा ने अरुण यादव को ठोका है उससे लगता है कांग्रेस में एक बार फिर सिर्फ फुटव्वल शुरू हो गई है।