आगामी चुनावों से पहले फिर चर्चाओं में दिग्विजय सिंह की “नर्मदा परिक्रमा”, ये है कारण

दिग्विजय सिंह द्वारा वर्ष 2017-18 में की गई नर्मदा नदी की पैदल परिक्रमा पर आधारित यात्रा संस्मरण पुस्तक “नर्मदा के पथिक” लेखक तथा निजी सचिव ओमप्रकाश शर्मा (Om Prakash Sharma) द्वारा लिखी गई है।

कांग्रेस दिग्विजय सिंह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आगामी चुनावों (MP Upcoming Election) से पहले एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) की नर्मदा यात्रा चर्चाओं में है। इसका कारण दिग्विजय सिंह के निजी सचिव और लेखक ओमप्रकाश शर्मा की लिखी किताब “नर्मदा के पथिक” है, जिसका विमोचन 30 सितंबर 2021 को मप्र विधानसभा परिसर में किया जाएगा।खास बात ये है कि इस किताब के विमोचन कार्यक्रम के लिए बीजेपी (MP BJP) के कई बड़े नेताओं के साथ सीएम शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, प्रह्लाद पटेल को भी निमंत्रण कार्ड भेजे गए हैं, हालांकि यह सभी शामिल होते है या नहीं यह देखने वाली बात होगी।

यह भी पढ़े… OBC Reservation : आयोग जल्द मप्र शासन को पेश करेगा रिपोर्ट, हो रहा डाटा एकत्रित

दरअसल, मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री तथा वर्तमान कांग्रेस से राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह द्वारा वर्ष 2017-18 में की गई नर्मदा नदी की पैदल परिक्रमा पर आधारित यात्रा संस्मरण पुस्तक “नर्मदा के पथिक” लेखक तथा निजी सचिव ओमप्रकाश शर्मा (Om Prakash Sharma) द्वारा लिखी गई है। लगभग 400 पृष्ठों की इस वृहद् पुस्तक में नर्मदा किनारे की लोक-संस्कृति की अद्भुत झाँकी प्रस्तुत की गई है।पुस्तक की प्रस्तावना में दिग्विजय सिंह लिखते हैं “यह पुस्तक सिर्फ एक यात्रा वृत्तांत ही नहीं बल्कि एक ऐसा साक्षी दस्तावेज़ भी है जिसमें नर्मदा के तट पर बसने वाले लोगों के जीवन, धर्म, सामाजिक रीति-रिवाज, परंपराएँ, मान्यताएँ, उत्सवों और त्योहारों से जुड़े सभी पहलुओं का अद्भुत समावेश किया गया है।”

यह भी पढ़े.. मप्र निकाय चुनाव से पहले उम्मीदवारों के लिए बड़ी अपडेट, नामांकन हो सकता है निरस्त

बता दे कि 2018 के मप्र विधानसभा चुनाव (mp assembly election) से पहले दिग्विजय सिंह ने अपनी पत्नी अमृता राय के साथ नरसिंहपुर जिले के बरमान घाट से नर्मदा पूजन के बाद नर्मदा परिक्रमा पदयात्रा शुरू की थी, जो 192 दिन में पूरी हुई थी। इसमें कांग्रेस के कई दिग्गज नेता और ओपी शर्मा भी दिग्वजिय के सहयात्री रहे हैं।छह माह और दस दिन में संपन्न, दुर्गम पथ से की गई परिक्रमा का एक साक्षी दस्तावेज़ है यह किताब। यह पुस्तक अमेज़न पर प्री बुकिंग में उपलब्ध हो चुकी है। इच्छुक पाठक अमेज़न पर जाकर प्री बुकिंग में अपनी प्रति बुक करवा सकते हैं। प्री बुकिंग करने वाले सभी पाठकों को दिग्विजय सिंह द्वारा हस्ताक्षरित प्रति भेजी जाएगी।

दिग्विजय सिंह