बड़ी राहत: रिकटवरी रेट में बढ़ोत्तरी, अब देश में 14वें नंबर पर पहुंचा मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट निरंतर बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटे में 13 हजार 584 कोरोना के मरीज स्वस्थ हुए, वहीं 12400 नए मरीज आए हैं।

मध्य प्रदेश
3D illustration of Coronavirus, virus which causes SARS and MERS, Middle East Respiratory Syndrome

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में एक तरफ कोरोना संक्रमितों (Coronavirus) का आंकड़ा 92 हजार से 90 पहुंच गया है, वही दूसरी तरफ नए प्रकरणों की तुलना में रिकवरी निरंतर बढ़ रही है।मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर निरंतर घट रही है। कोरोना संक्रमण के मामले में प्रदेश देश में 14वें स्थान पर आ गया है। प्रदेश में कोरोना के एक्टिव प्रकरणों की संख्या 90 हजार 796 हो गई है।

यह भी पढ़े.. कोरोना काल में मप्र के शासकीय शिक्षकों ने उठाई ये मांग, हाईकोर्ट जाने की चेतावनी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान  (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने जानकारी देते हुए बताया कि मध्य प्रदेश में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट निरंतर बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटे में 13 हजार 584 कोरोना के मरीज स्वस्थ हुए, वहीं 12400 नए मरीज आए हैं। प्रदेश का रिकवरी रेट 83 प्रतिशत हो गया है।मध्य प्रदेश में कोरोना की पॉजिटिविटी रेट में भी गिरावट दर्ज की जा रही है। प्रदेश की औसत पॉजिटिविटी रेट 21.1% हो गया है तथा 7 दिन की औसत पॉजिटिविटी रेट 22.4% है। देश की सात दिनों की औसत पॉजिटिविटी रेट 21% है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि इंदौर जिले में सर्वाधिक 1811 नए कोरोना प्रकरण आए हैं। भोपाल में 1713, ग्वालियर में 980, जबलपुर में 771, रीवा में 345, उज्जैन में 322, रतलाम में 280, सागर में 257, शहडोल में 256 तथा धार में 249 नए कोरोना प्रकरण आए हैं। जिन मरीजों के घर पर होम आइसोलेशन की जगह नहीं है, वे कोविड केयर सेंटर में जाएं। प्रदेश के सभी जिलों में कोविड केयर सेंटर संचालित हैं, जिनमें कुल 3889 बेड्स तथा 650 ऑक्सीजन बेड्स हैं।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश में सख्ती बढ़ाने की तैयारी, अंतर्राज्यीय सीमाएँ हो सकती है सील

बैठक में बताया गया कि मध्य प्रदेश में कोरोना के उपचार के लिए शासकीय एवं निजी अस्पतालों में कुल 57741 बेड्स हैं, जिनमें से वर्तमान में 40 हजार बेड्स भरे हैं। कुल मरीजों में 71% होम आइसोलेशन में तथा 29% अस्पतालों में हैं।निजी क्षेत्र में नई ऑक्सीजन यूनिट लगाने पर शासन की और से अनुदान व सहायता दी जाएगी। अतः निवेशक मध्यप्रदेश में ऑक्सीजन यूनिट स्थापित करें।