मार्च 2020 तक 22 लाख सरकारी नौकरियों का वादा, जानिये कांग्रेस घोषणापत्र की यह ख़ास बातें

congress-manifesto-2019-rahul-gandhi-releases-manifesto-for-lok-sabha-election

नई दिल्ली| लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। इसमें जनता से बड़े वाडे किये हैं| चुनाव से किसान, युवा, बेरोजगारी और मजदूर बड़ा मुद्दा रहा है| जिसके चलते हर वर्ग को साधने के लिए कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी किया है| घोषणा पत्र को जन-आवाज का नाम दिया गया है।  शिक्षा, स्वास्थ्य, युवा, किसान, समेत तमाम मुद्दों पर ऐलान किया गया है| 

कांग्रेस ने ‘हम निभाएंगे’ के वादे के साथ न्यूनतम आय योजना, रोजगार सृजन और किसानों के लिए अलग बजट समेत 5 बड़े ऐलान किए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मेनिफेस्टो जारी करते हुए कहा सत्ता में आने पर 20 फीसदी गरीबों के लिए ‘न्यूनतम आय योजना’ शुरू करने का वादा किया। इसके तहत गरीब तबके के लोगों को प्रति माह 6,000 रुपये दिए जाएंगे।  

यह पांच बड़े वादे 

-हर साल गरीब तबके के 20 फीसदी लोगों के खाते में 72,000 रुपये डाले जाएंगे। कांग्रेस ने इस स्कीम के लिए ‘गरीबी पर वार, हर साल 72 हजार’ का नारा दिया है। कांग्रेस की न्याय योजना इस चुनाव का सबसे बड़ा मुद्दा है| राहुल गांधी ने हाल ही में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसका ऐलान किया था, जिसके तहत देश के 20 फीसदी गरीब लोगों को सालाना 72000 रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी| राहुल के मुताबिक, उनका लक्ष्य आम आदमी की न्यूनतम आय 12000 रुपये मासिक तक करने का है. इस योजना के ऐलान के बाद से ये चर्चा में बनी हुई है|

-22 लाख सरकारी नौकरियों का वादा कांग्रेस ने किया है। 10 लाख लोगों को ग्राम पंचायतों में रोजगार देने का वादा किया गया है। 3 साल तक युवाओं को कारोबार करने के लिए किसी से भी अनुमति लेने की जरूरत नहीं है। इससे पहले राहुल गांधी ने हाल ही में ट्वीट कर ऐलान किया था कि उनकी सरकार बनेगी तो केंद्र में खाली पड़े 22 लाख पदों पर भर्तियां चालू करेंगे|  राहुल गांधी ने इसके लिए 30 मार्च 2020 का लक्ष्य भी रखा है| इसे घोषणा पत्र में प्रमुखता से रखा गया है| देश में बढ़ती बेरोजगारी को मुद्दा बनाते हुए कांग्रेस इस घोषणा को चुनाव में भुनाएगी और इसी आधार पर वोट मांगेगी| 

-मनरेगा में काम के दिनों को 100 से बढ़ाकर 150 करने का ऐलान। 

-किसानों के लिए अलग से बजट जारी करने का ऐलान। किसानों का कर्ज न चुका पाना अपराध के दायरे से बाहर होगा। 

-जीडीपी का 6 फीसदी हिस्सा शिक्षा पर खर्च किया जाएगा। यूनिवर्सिटीज, आईआईटी, आईआईएम समेत टॉप संस्थानों तक गरीबों की पहुंच को आसान करने का वादा। 

चौकीदार छुप सकता है, मगर भाग नहीं सकता-राहुल गाँधी 

न्याय योजना को लेकर राहुल गांधी ने कहा कि बीजेपी ने कहा था कि किसान का कर्जा माफ करना नहीं हो सकता, मगर मैं कहता हूं कि यह बीजेपी के लिए संभव नहीं है, मगर यह कांग्रेस के लिए संभव है. आप हम पर भरोसा कीजिए, हम करके दिखाएंगे. मैं 15 लाख का वादा नहीं करूंगा, मगर मैं 72 हजार देकर दिखाऊंगा| गब्बर सिंह टैक्स को हम जीएसटी में बदलेंगे| पांच टैक्स को हम सिंपल करेंगे और सरल सिस्टम होगा| राहुल गाँधी ने कहा चौकीदार छुप सकता है, मगर भाग नहीं सकता है| बीजेपी अगर पूंजीपतियों को पैसे दे सकती है तो कांग्रेस पार्टी भी गरीबों को 72 हजार दे सकती है| इसका झटका लगा है पीएम मोदी को| पीएम मोदी इसी वजह किसी -किसी वजह से छुप रहे हैं, मगर पीएम मोदी देश की सच्चाई से छुप नहीं सकते| यह देश की सच्चाई है कि देश का किसान आत्म हत्या कर रहा है, नरेंद्र मोदी ने अच्छे दिन का वादा किया था, मगर पीएम मोदी ने चोरी करवाई है. यह देश का नैरेटिव है| 

घोषणापत्र की बड़ी बातें:

-हर साल 20 फीसदी गरीबों को न्याय योजना के तहत 72 हजार रुपये सालाना

-मार्च 2020 तक 22 लाख खाली पड़े पदों को भरा जाएगा।

-हिंसक भीड़ पर रोक लगाएंगे, लोकसभा में नया कानून लाएंगे।

-युवाओं को पक्का रोजगार मिलेगा।

-जीएसटी को आसान बनाया जाएगा।

-मनरेगा में 100 दिन से बढ़ाकर 150 दिन रोजगार गारंटी

-3 साल तक नए कारोबारों को किसी मंजूरी की जरूरत नहीं

-ग्राम पंचायत में 10 लाख नौकरियां

-जीडीपी का 6 फीसदी शिक्षा के लिए खर्च होगा

–