कोरोना के बढ़ते आंकड़ों के बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान चौहान का बड़ा फैसला

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि होम आइसोलेशन (Home isolation) व्यवस्था को इतना सुदृढ़ बनाया जाए कि मरीजों को अस्पताल जाने की जरूरत ही न पड़े।

शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। MP में कोरोना संक्रमितों (Coronavirus) का आंकड़ा 63 हजार के पार होने के बाद मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) का बड़ा बयान सामने आया है।सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि होम आइसोलेशन (Home isolation) व्यवस्था को इतना सुदृढ़ बनाया जाए कि मरीजों को अस्पताल जाने की जरूरत ही न पड़े। होम आइसोलेशन की व्यवस्था को पुख्ता बनाया जाए तथा होम आइसोलेशन में रह रहे हर मरीज को नि:शुल्क दवाई की किट उपलब्ध कराई जाए।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश के इन जिलों में बढ़ाया गया 26 अप्रैल तक कोरोना कर्फ्यू, सख्ती की तैयारी

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को शहरी क्षेत्र में नगरीय निकाय एवं ग्रामीण क्षेत्र में पंचायतों के माध्यम से नि:शुल्क दवाओं की किट वितरित की जाएगी। जिन मरीजों को होम आइसोलेशन के लिए उनके घर में जगह नहीं है, उन्हें सीसीसी में रखा जाए। यहाँ दवाओं, चाय, नाश्ता, भोजन आदि सभी व्यवस्थाएँ अच्छी हों।होम आइसोलेशन में दवाओं की किट, टेलीमेडिसिन के साथ ही निरंतर निगरानी हो। दिन में दो बार मरीज से बात की जाए।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना टेस्ट (Corona Test) की संख्या बढ़ाई जाए और उसकी रिपोर्ट 24 घंटे में आना सुनिश्चित किया जाए।  प्रदेश में कोरोना के इलाज के लिए अस्पतालों में बिस्तरों, Oxygen, Remedicivir Injection, दवाओं आदि की सुविधा निर्बाध रूप से मिलती रहे, यह सुनिश्चित किया जाए। साथ ही इन सुविधाओं की जानकारी कॉल सेंटर 1075 आदि के माध्यम से जनता को निरंतर मिलती रहे।शासकीय एवं निजी लेब में कोरोना टेस्ट क्षमता बढ़ाने के निर्देश दिए। साथ ही वहां इस प्रकार की व्यवस्था की जाए कि किसी भी व्यक्ति को कोरोना टेस्ट करवाने के लिए लाइन में न लगना पड़े।

यह भी पढ़े.. MP College Exam 2021: उच्च शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, ओपन बुक प्रणाली से होगी UG-PG की परीक्षाएं

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति निरंतर बढ़ती जा रही है तथा उपयोग के हिसाब से ऑक्सीजन मिल रही है। यह सुनिश्चित किया जाए कि प्राप्त ऑक्सीजन सभी जिलों को समय पर उपलब्ध हो जाए।प्रदेश के विभिन्न जिलों में 4 हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था की जा रही है। इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं। 2 हजार कंसंट्रेटर पहले दिए जा चुके हैं तथा 150 कंसंट्रेटर और आ गए हैं। इसी प्रकार सभी जिलों में कुल 58 ऑक्सीजन संयंत्र चालू किए जाने के संबंध में कार्यवाही की जा रही है। इनमें से 21 लग गए हैं तथा 13 शीघ्र चालू होंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह  चौहान ने कहा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की त्वरित आपूर्ति के लिए उन्हें विमान से मंगाने की व्यवस्था की जाए। हेट्रो कम्पनी को एक लाख रेमडेसिविर इंजेक्शन का आर्डर दिया गया है। निजी लैब, अस्पतालों द्वारा निर्धारित दर पर ही कोरोना टेस्ट, सीटी स्केन तथा कोरोना का उपचार किया जाए। अस्पताल टेस्ट एवं इलाज की दरें बाहर प्रदर्शित करें। जो अस्पताल निर्धारित दरों से अधिक शुल्क लें, उनके खिलाफ कार्यवाही की जाए।

यह भी पढ़े.. UPSC Exam 2021: लॉकडाउन के बीच 18 अप्रैल को प्रारंभिक परीक्षा, मप्र से 15773 परीक्षार्थी होंगे शामिल

बता दे कि प्रदेश में कोरोना के 63 हजार 889 एक्टिव प्रकरण हैं। इसमें प्रदेश में 44 हजार 999 मरीज होम आयसोलेशन में हैं। कोरोना के 11 हजार 269 नए प्रकरण आए हैं।प्रदेश के सभी जिलों में 110 कोविड केयर सेंटर प्रारंभ कर दिए गए हैं। इनमें 6,153 बिस्तरों की उपलब्धता है।  प्रदेश में कोरोना संक्रमण बढ़ने की गति धीमी हुई है। एक्टिव प्रकरणों में से 68 प्रतिशत होम आइसोलेशन तथा 32 प्रतिशत अस्पतालों में हैं।