Monkeypox बन चुका है महामारी! वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क ने कर दी घोषणा, जाने इस वायरस के लक्षण

अब तक यह वायरस दुनिया के कई देशों में फैल चुका है, इससे होने वाले मौत के मामले भी बढ़ रहे हैं। इसी बीच वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क ने मंकीपॉक्स को महामारी घोषित कर दिया है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। अब तक कोरोनावायरस का खतरा दुनिया से खत्म नहीं हुआ था और दूसरी तरफ Monkeypox ने अपनी रफ्तार तेज कर ली है। अब तक यह वायरस दुनिया के कई देशों में फैल चुका है, इससे होने वाले मौत के मामले भी बढ़ रहे हैं। इसी बीच वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क ने मंकीपॉक्स को महामारी घोषित कर दिया है। अब मंकीपॉक्स एक महामारी बन चुका है। बता दें की अब तक पूरी दुनिया में 58 देशों में इस वायरस के 3471 मामले सामने आ चुके हैं। हालांकि आज यानी 23 जून को वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन द्वारा मंकीपॉक्स के मुद्दे पर बैठक होने वाली है, लेकिन इससे पहले वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क ने चेतावनी दे दी।

यह भी पढ़े… MP के इन शहरों में आज बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, इस शहर में पेट्रोल सबसे सस्ता, जाने सभी शहरों का हाल

मंकीपॉक्स से होने वाली मौत के मामले स्मॉल पॉक्स की तुलना में काफी कम है, लेकिन फिर भी खतरनाक साबित हो सकता है। वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क ने अपने बयान में यह भी कहा है कि यदि कोई ग्लोबल एक्शन नहीं लिया गया तो मंकीपॉक्स को रोकना नामुमकिन है और इससे लाखों लोगों की मौत भी हो सकती है या फिर इस बीमारी से ग्रसित लोग अपाहिज या अंधे हो सकते हैं। संस्था ने अपने बयान में यह भी कहा कि डब्ल्यूएचओ और सीडीएस ऑर्गेनाइजेशन को इसे रोकने के लिए सख्त कदम उठाने चाहिए। वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क के बयान के मुताबिक यदि मंकीपॉक्स के खतरे के खिलाफ सख्त कदम नहीं उठाए गए तो यह आने वाले दिन में लोगों के लिए कई मुश्किल है खड़ी कर सकता है।

यह भी पढ़े… 12 साल की मासूम का मां ने कराया 2 बार विवाह, नाबालिग हुई 3 माह के गर्भ से

मंकीपॉक्स और स्मॉल पॉक्स के लक्षण काफी मिलते-जुलते हैं। दोनों ही वायरस एक ही फैमिली ऑर्थोपॉक्स वायरस से तालुकात रखते हैं। मंकीपॉक्स चूहों और जानवरों से फैलता है। इसका पहला केस अफ्रीका में पाया गया था जो धीरे-धीरे दुनिया के कई देशों में फैल चुका है। इस बीमारी से संक्रमित लोगों में बुखार, शरीर पर रैशेज और सूजन जैसे के लक्षण दिखाई देते हैं।