यह खास तरह के फूड ही बच्चों को कर देते हैं कमजोर, ग्रोथ के साथ इम्यूनिटी पर भी पड़ता है असर

बच्चों की मेंटल और फिजिकल ग्रोथ के लिए उनके खाने-पीने का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है। यह बात हम सभी जानते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ फूड्स ऐसे होते हैं जिन्हें अगर बच्चों को लगातार खिलाया जाए तो बच्चों की ग्रोथ रुक सकती है।

हेल्थ, डेस्क रिपोर्ट। बच्चों की मेंटल और फिजिकल ग्रोथ के लिए उनके खाने-पीने का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है। यह बात हम सभी जानते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ फूड्स ऐसे होते हैं जिन्हें अगर बच्चों को लगातार खिलाया जाए तो बच्चों की ग्रोथ रुक सकती है। ऐसे में बहुत जरूरी है कि इन बैड फूड स्कोर बच्चों से दूर रखें लेकिन उसके पहले आपको इनकी प्रॉपर जानकारी होनी चाहिए। तो आइये जानते हैं उन फूड्स के बारे में:

यह भी पढ़ें – ‘आश्रम 3’ में एक्ट्रेस अनुरीता ने किए हैं जबरदस्त बोल्ड सीन, पापा ने कही यह बड़ी बात

फ्रूट इसमें हम फल की बात नहीं कर रहे हैं। हम इसमें बात कर रहे हैं कि फ्रूट के फ्लेवर वाली चीजें जिनमें फ्रूट केक, फ्रूट गमी, कैंडी इत्यादि शामिल होते हैं। दरअसल इनमें अधिक मात्रा में चीनी होती है और इसे शुगर और केमिकल के द्वारा बनाया जाता है। जो बच्चों के दांतो से चिपक कर उन्हें कैविटी की प्रॉब्लम दे सकती है।

यह भी पढ़ें – सरकार ने रेस्टोरेंट्स को लगाई फटकार, इस नियम के बाद अब हो जाएगा खाना सस्ता

फ्रेंच फ्राइज आज के समय में इसकी मांग बढ़ते ही जा रही है। यह बच्चों को बहुत ही पसंद है लेकिन इसमें ट्रांस फैट और कैलोरी अधिक होता है। जो बच्चों के डाइजेशन के लिए हानिकारक साबित होता है। अगर आप अपने बच्चों को फ्रेंच फ्राइज से दूर करना चाहते हैं तो आलू की जगह शकरकंद या दूसरी सब्जियों को ऑलिव ऑयल में ट्राई करके बच्चों को दे सकते हैं।

यह भी पढ़ें – राजामौली की ‘RRR’ को मिला एक नया खिताब, नेटफ्लिक्स पर आई है नंबर- 1

शक्कर से भरपूर चीजों में फाइबर बिल्कुल भी नहीं होता है। अगर होता भी है तो वह नाम मात्र का ही होता है जैसे क्रीम रोल, मफिंस। इनमें कोई भी पोषक तत्व नहीं होता है इसलिए बच्चों को ऐसी चीजें ना दें जिसमें 10 ग्राम से कम चीनी और 3 ग्राम से कम फाइबर हो।

प्रोसैस्ड रेड मीट, हॉट डॉग डायबिटीज और पेट के कैंसर का खतरा बढ़ाते हैं इसलिए इन्हें भी बच्चों से दूर रखना चाहिए। यदि आप रोज मीट खरीदते हैं तो कम सोडियम कार्बनिक वेरिएंट और नाइट्रेट्स फ्री वाला मीट खरीदें।

यह भी पढ़ें – MG Motor ने मचाया तहलका, लोगों को आ रही इतनी पसंद कि धड़ल्ले से हो रही बिक्री, जानें क्या है खास

सोडा एवं कोला पीने से टाइप टू डायबिटीज होने की संभावना बनी रहती है। साथ ही मोटापा बढ़ने का खतरा हो जाता है, इसलिए अपने बच्चों को पैक फलों के रस का सेवन बिल्कुल भी ना करने दें। इसमें सिर्फ सोडा और शुगर के अलावा कुछ नहीं होता है।

यह भी पढ़ें – Mandi bhav: 3 जून 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

Disclaimer: यह लेख केवल जानकारी के लिए है। एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी बीमारी के सम्बन्ध में अपने डॉ. से परामर्श करें।