श्रीलंका संकट : देश में मचा हाहाकार, पेट्रोल 500 रुपये लीटर के करीब वहीं डीजल 450 रुपये के पार

देश में पेट्रोल की कीमत बढ़कर 470 वहीं डीजल की कीमत बढ़कर 460 श्रीलंकाई रूपये प्रति लीटर हो गई है। ईंधन बेचने वाली सरकारी रिफाइनरी सीलोन पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (CPC) ने कहा कि कीमतों में बढ़ोतरी रविवार रात दो बजे से लागू हो गई है

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। आर्थिक संकट से जूझ रहे पड़ोसी मुल्क श्रीलंका की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। जरुरी चीजों के लिए संघर्ष कर रहे देश पर अब ईंधन (Fuel) का संकट भी गहरा गया है। देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बहुत भारी वृद्धि देखने को मिल रही है। जानकारी के मुताबिक, देश में पेट्रोल की कीमत में 50 श्रीलंकाई रुपये, जबकि डीजल की कीमतों में 60 श्रीलंकाई रुपये की बढ़ोतरी हुई है।

जिसके बाद से देश में पेट्रोल की कीमत बढ़कर 470 वहीं डीजल की कीमत बढ़कर 460 श्रीलंकाई रूपये प्रति लीटर हो गई है। ईंधन बेचने वाली सरकारी रिफाइनरी सीलोन पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (CPC) ने कहा कि कीमतों में बढ़ोतरी रविवार रात दो बजे से लागू हो गई है। श्रीलंका सरकार ने ईंधन संकट के कारण आवाजाही को कम करने के लिए स्कूलों के साथ-साथ गैर-जरूरी सरकारी संस्थानों को भी दो सप्ताह के लिए बंद कर दिया था।

ये भी पढ़े … शिंदे गुट ने MVA से समर्थन वापस लिया

इससे पहले, देश के प्रधान मंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने नागरिकों से ईंधन का संयम से उपयोग करने का आग्रह किया था। उधर, देश के ऊर्जा मंत्री कंचना विजेसेकेरा (Kanchana Wijesekera) ने कहा था कि पिछले सप्ताह आने वाले तेल के शिपमेंट नहीं पहुंचे हैं। बैंकिंग समस्याओं की वजह से आने वाले सप्ताह में भी तेल श्रीलंका नहीं पहुंच पाएंगे।

हालांकि, उन्होंने विकल्प के तौर पर रूस से तेल आयात करने की बात कही है।उन्होंने बताया कि दो मंत्री ईंधन और अन्य राजनयिक मामलों पर चर्चा करने के लिए सोमवार को रूस की यात्रा पर जाने वाले हैं।

बता दे, पिछले काफी समय से विदेशी मुद्रा की भारी कमी होने के कारण श्रीलंका अपने नागरिकों के लिए जरूरी चीजों का आयात भी नहीं कर पा रहा है।