Attraction Power: 10 मिनट का ध्यान, जीवन भर का बदलाव, चमत्कारी हस्त मुद्रा से पाएं सफलता

Attraction Power: ध्यान और सांसों पर ध्यान केंद्रित करने की यह तकनीक एक शक्तिशाली उपकरण है जो आपके जीवन के कई पहलुओं को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। यदि आप इसे नियमित रूप से अभ्यास करते हैं, तो आप निश्चित रूप से इसके लाभों का अनुभव करेंगे।

hast mudra

Attraction Power: क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि आप अपनी इच्छाओं को केवल अपने विचारों और हस्त मुद्राओं (मुद्रा) की शक्ति से पूरा कर सकते हैं? आकर्षण शक्ति और हस्त मुद्राओं का प्राचीन विज्ञान आपको यही करने में मदद कर सकता है। हस्त मुद्राएं क्या हैं? हस्त मुद्राएं (मुद्रा) हाथों की विशिष्ट स्थितियां होती हैं जिनका शरीर और मन पर गहरा प्रभाव माना जाता है। विभिन्न हस्त मुद्राएं विभिन्न ऊर्जाओं को सक्रिय करती हैं और विभिन्न लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायक हो सकती हैं। आकर्षण शक्ति के लिए कौन सी हस्त मुद्राएं सबसे प्रभावी हैं? यहां कुछ हस्त मुद्राएं दी गई हैं जो आकर्षण शक्ति को बढ़ाने और आपकी इच्छाओं को पूरा करने में विशेष रूप से सहायक मानी जाती हैं।

हिंदू धर्म के प्राचीन वेद पुराणों में छिपी ज्ञान की अथाह धरोहर सदैव से ही मनुष्य को आकर्षित करती रही है। इन्हीं रहस्यों में से एक है त्रिलोक मुद्रा, जिसे मोहिनी मुद्रा, आकर्षण मुद्रा और जग मोहनी मुद्रा के नाम से भी जाना जाता है। ऋषि-मुनियों और योगियों द्वारा शक्तियां और देवताओं को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए सदियों से प्रयुक्त यह मुद्रा आज भी उतनी ही प्रासंगिक और प्रभावशाली है। यह मुद्रा न केवल बोलचाल और व्यक्तित्व में आकर्षण पैदा करती है, बल्कि व्यक्ति के चारों ओर एक ऐसा शक्तिशाली ऊर्जा क्षेत्र (ओरा) भी निर्मित करती है जो आसपास के लोगों को प्रभावित किए बिना नहीं रह सकता।

मोहिनी हस्त मुद्रा

“कराग्रे वसते लक्ष्मी” मंत्र, जिसे “प्रभात कर दर्शन” मंत्र भी कहा जाता है, एक संस्कृत मंत्र है जो देवी लक्ष्मी, सरस्वती और भगवान विष्णु का आह्वान करता है। यह मंत्र सुबह उठने के बाद प्रार्थना के लिए बोला जाता है और माना जाता है कि यह समृद्धि, ज्ञान और मोक्ष प्रदान करता है। सबसे पहले, एक शांत जगह पर सीधे बैठ जाएं और अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें। अपनी चारों उंगलियों को मोड़कर अपने दोनों हाथों को एक साथ लाएं। अपने हाथों को उठाकर अपनी छाती के सामने रखें। अपनी आँखें बंद करें और अपना ध्यान अपने आज्ञा चक्र (भौंहों के बीच का बिंदु) पर केंद्रित करें। धीरे-धीरे और भक्ति भाव से “कराग्रे वसते लक्ष्मी” मंत्र का जाप करें। आप जितनी बार चाहें मंत्र का जाप कर सकते हैं।

रोज इस मुद्रा को करने के क्या-क्या फायदे होते हैं

1. शांति और तनाव में कमी

यह ध्यान तकनीक आपको शांत करने और तनाव को कम करने में मदद कर सकती है। जब आप अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो आप अपने मन को शांत करते हैं और वर्तमान क्षण में वापस आते हैं। इससे चिंता और अवसाद जैसी भावनाओं को कम करने में मदद मिल सकती है।

2. एकाग्रता और ध्यान में सुधार

यह तकनीक आपकी एकाग्रता और ध्यान में सुधार करने में भी मदद कर सकती है। जब आप अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो आप अपने मन को भटकने से रोकते हैं और एक चीज़ पर ध्यान केंद्रित करना सीखते हैं। इससे आपको अपने काम या अध्ययन में बेहतर प्रदर्शन करने में मदद मिल सकती है।

3. आत्म-जागरूकता में वृद्धि

यह तकनीक आपकी आत्म-जागरूकता बढ़ाने में भी मदद कर सकती है। जब आप अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो आप अपने विचारों, भावनाओं और संवेदनाओं के बारे में अधिक जागरूक हो जाते हैं। इससे आपको खुद को और बेहतर ढंग से समझने में मदद मिल सकती है।

4. रचनात्मकता और प्रेरणा में वृद्धि

यह तकनीक आपकी रचनात्मकता और प्रेरणा बढ़ाने में भी मदद कर सकती है। जब आप अपना मन शांत करते हैं और वर्तमान क्षण में वापस आते हैं, तो आप नए विचारों और अंतर्दृष्टि के लिए खुले हो जाते हैं। इससे आपको अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने और अपने जीवन में अधिक सफल होने में मदद मिल सकती है।

5. बेहतर नींद

यह तकनीक आपको बेहतर नींद लेने में भी मदद कर सकती है। जब आप अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो आप अपने शरीर और दिमाग को आराम देते हैं। इससे आपको आसानी से सो जाने और पूरी रात अच्छी नींद लेने में मदद मिल सकती है।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News