Bhopal Travel: इस बार वीकेंड पर बना रहे भोपाल घूमने का प्लान, तो आसपास की इन जगहों पर जरूर घूमें

Bhopal Travel: भोपाल मध्य प्रदेश की राजधानी है और यह अपनी समृद्ध संस्कृति, ऐतिहासिक स्मारकों और प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। यदि आप भोपाल में हैं और एक दिन की यात्रा की योजना बना रहे हैं, तो यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आप 50 किलोमीटर के अंदर देख सकते हैं।

bhopal

Bhopal Travel: मध्य प्रदेश की राजधानी, भोपाल, धर्म, इतिहास और प्राकृतिक सुंदरता का अद्भुत संगम है। यह शहर अपनी समृद्ध संस्कृति, विविधतापूर्ण आकर्षणों और गर्मजोशी से मेहमाननवाजी के लिए जाना जाता है। धार्मिक पर्यटकों के लिए, भोपाल में कई प्रसिद्ध मंदिर और तीर्थस्थल हैं। भोजपुर मंदिर, भगवान शिव को समर्पित एक प्राचीन मंदिर, और ताज-उल-मस्जिद, अपनी भव्य वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध, दर्शनीय स्थलों में से कुछ हैं। इतिहास प्रेमियों के लिए, भोपाल गौरवशाली अतीत के अवशेषों से भरा हुआ है। भोपाल किला, 18वीं शताब्दी का एक भव्य किला, और वन विहार राष्ट्रीय उद्यान, जिसमें प्राचीन गुफाएं और मूर्तियां हैं, इस शहर के ऐतिहासिक महत्व को दर्शाते हैं।

प्रकृति प्रेमियों के लिए, भोपाल में कई मनोरम पार्क और झीलें हैं। भोपाल झील, नौका विहार और पिकनिक के लिए एक लोकप्रिय स्थान, और वन विहार राष्ट्रीय उद्यान, विभिन्न प्रकार के वनस्पतियों और जीवों का घर, प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेने के लिए आदर्श हैं। भोपाल, अपने स्वादिष्ट व्यंजनों के लिए भी जाना जाता है। यहां आपको मुगलई, अवधी और स्थानीय व्यंजनों का स्वादिष्ट मिश्रण मिलेगा। भोपाली बिरयानी, दाल बाटी चूरमा, और सेव पूरी, यहां के कुछ प्रसिद्ध व्यंजन हैं।

सांची

भोपाल से 48 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सांची, सदियों पुराने स्तूपों, मठों, मंदिरों और स्तंभों का खजाना है। यह धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व का एक प्रमुख तीर्थस्थल है जो हरी-भरी पहाड़ियों की गोद में बसा हुआ है। यहां का सबसे प्रसिद्ध सांची का ग्रेट स्तूप, सम्राट अशोक द्वारा बनवाया गया था और इसमें बुद्ध के अवशेष रखे गए हैं। स्तूप की दीवारों पर जटिल नक्काशी और मूर्तियां बुद्ध के जीवन और शिक्षाओं को दर्शाती हैं। स्तूप नंबर 2 और 3 भी बड़े और महत्वपूर्ण हैं, जिनमें भी बुद्ध के अवशेष रखे गए हैं। अशोक स्तंभ, मठ और सांची संग्रहालय, इस प्राचीन स्थल के दर्शनीय स्थलों में शामिल हैं। सांची की यात्रा, इतिहास और आध्यात्मिकता के प्रेमियों के लिए एक अविस्मरणीय अनुभव होगा।

भोजपुर

भोपाल से 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित भोजपुर, 11वीं शताब्दी के भोजपुर मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और अपनी भव्यता और स्थापत्य कला के लिए जाना जाता है। विशाल ग्रेनाइट के पत्थरों से निर्मित, यह मंदिर जटिल नक्काशी और मूर्तियों से अलंकृत है। मंदिर के गर्भगृह में भगवान शिव की एक विशाल प्रतिमा है, जो 7.5 फीट ऊँची है। भोजपुर मंदिर, राजा भोज द्वारा बनवाया गया था, जो 11वीं शताब्दी में परमार राजवंश के शासक थे। राजा भोज कला और साहित्य के प्रेमी थे और उन्होंने कई मंदिरों और भवनों का निर्माण करवाया था। भोजपुर मंदिर, न केवल धार्मिक महत्व का स्थान है, बल्कि यह भारतीय स्थापत्य कला का एक उत्कृष्ट नमूना भी है। यह मंदिर, हर साल हजारों श्रद्धालुओं और पर्यटकों को आकर्षित करता है। भोजपुर की यात्रा, इतिहास और धर्म प्रेमियों के लिए एक अविस्मरणीय अनुभव होगी।

रायसेन किला

भोपाल से मात्र 47.2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित रत्नावली किला, अपनी भव्यता और रहस्यमय कहानियों के लिए जाना जाता है। 1200 ईस्वी में निर्मित यह किला, एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है, जो इसे और भी आकर्षक बनाता है। यह किला अपनी स्थापत्य कला के लिए भी प्रसिद्ध है। लाल बलुआ पत्थर से निर्मित, इस किले में कई महल, मंदिर और अन्य भवन हैं। किले के चारों ओर एक विशाल परकोटा भी है, जो इसे दुश्मनों से बचाने के लिए बनाया गया था। इस किले से जुड़ी एक प्रसिद्ध कहानी है रानी रत्नावली की। कहा जाता है कि राजा को रानी रत्नावली पर शक था कि वह किसी अन्य पुरुष से प्यार करती है। क्रोध में आकर, राजा ने रानी रत्नावली का सिर काट दिया।

भोपाल झील

भोपाल झील भोपाल शहर के केंद्र में स्थित एक कृत्रिम झील है। यह नौका विहार, मछली पकड़ने और पिकनिक के लिए एक लोकप्रिय स्थान है। आप झील के किनारे टहल सकते हैं या नाव की सवारी का आनंद ले सकते हैं और शहर के शानदार दृश्यों का आनंद ले सकते हैं।

वन विहार

भोपाल शहर के ह्रदय में स्थित, वन विहार, एक ऐसा स्थान है जो आपको प्रकृति के करीब ले जाता है। यह एक विशाल चिड़ियाघर और वनस्पति उद्यान है, जो विभिन्न प्रकार के जानवरों, पक्षियों और वनस्पतियों का घर है। वन विहार में, आप शेरों की दहाड़, बाघों की गुर्राट, हाथियों के विशालकाय शरीर और हिरणों की चपलता का अनुभव कर सकते हैं। चिड़ियाघर में कई दुर्लभ और विदेशी पक्षी भी हैं, जो आपको अपनी सुंदरता और गीतों से मंत्रमुग्ध कर देंगे। यदि आप प्रकृति प्रेमी हैं, तो वन विहार का वनस्पति उद्यान आपके लिए एकदम सही जगह है। यहां, आप विभिन्न प्रकार के पौधों, फूलों, पेड़ों और झाड़ियों को देख सकते हैं।


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।