Kanchipuram Sarees: कांचीपुरम साड़ियों की कीमतों में देखी जा रही भारी वृद्धि, बिक्री में आई 20% की गिरावट, जानें इसके पीछे का कारण

Kanchipuram Sarees : उपभोक्ता अब बिना सोने-चांदी के मिश्रण वाली साड़ियां खरीदने पर जोर दे रहे हैं, क्योंकि वे सस्ती हैं। बढ़ती कीमतों के चलते ग्राहक उन साड़ियों को प्राथमिकता दे रहे हैं जिनमें सोने और चांदी का उपयोग कम होता है।

Kanchipuram Sarees : शायद आपको यह जानकर हैरानी होगी कि सोने के बढ़ते दामों के कारण कांचीपुरम साड़ियां 50% तक महंगी हो गई हैं, जी हां यह बात सच है सोने के दामों के बढ़ने से इन साड़ियों की बिक्री में कमी आ गई है। शादियों का सीजन शुरू होने के बावजूद, लोग अब कांचीपुरम रेशम साड़ियों की ऊंची कीमतों के कारण खरीदारी से कतरा रहे हैं। दरअसल सोने और चांदी की बढ़ती कीमतों का सीधा असर इन साड़ियों की कीमतों पर पड़ा है, जिससे उपभोक्ता अब सस्ते विकल्पों की तलाश में हैं।

कांचीपुरम साड़ियों की बढ़ी कीमतें:

दरअसल शादी की साड़ियों में कांचीपुरम रेशम साड़ियां सबसे अधिक पसंद की जाती हैं। लेकिन अब, सोने की आसमान छूती कीमतों के कारण ये साड़ियां महंगी हो गई हैं। पिछले आठ महीनों की बात की जाए तो इसमें कांचीपुरम रेशम साड़ियों की कीमत में 50% तक की वृद्धि देखने की मिली है। जबकि सोने की बढ़ती कीमतों के कारण अब उपभोक्ता उन साड़ियों की ओर अपना मन बना रहे हैं जिनमें या तो सोने और चांदी की मात्रा बिलकुल कम है या फिर जिनमें ये धातुएं बिलकुल भी नहीं हो।

बिक्री में देखी गई 20% की गिरावट:

जानकारी के अनुसार कांचीपुरम रेशम साड़ियों की बिक्री में 20% की गिरावट दर्ज की गई है। रिपोर्ट के मुताबिक एक विशिष्ट बजट के साथ आने वाले कई ग्राहक भी कम सोने और चांदी की सामग्री वाली रेशम साड़ियों को पसंद कर रहे हैं। वहीं कुछ ग्राहक अपने बजट के अनुरूप ही साड़ियों की संख्या कम कर देते हैं। यह पहली बार है जब सोने की कीमतों के मद्देनजर कम समय में रेशम साड़ियों की कीमत में 35-40% तक का इजाफा देखा गया है।

सोने और चांदी की बढ़ती कीमतें ने चौकाया:

दरअसल सोने और चांदी की कीमतों में तेजी से वृद्धि हुई है। आपको बता दें कि 22 कैरेट सोने की कीमत 1 अक्टूबर 2023 को जहां 5,356 रुपये प्रति ग्राम थी, वो आज 21 मई 2024 को बढ़कर 6,900 रुपये प्रति ग्राम है। इवहीं सी तरह, चांदी ने भी सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। दरअसल चांदी की जो दरें 75.5 रुपये प्रति ग्राम थी अब वह 101 रुपये प्रति ग्राम हो गईं। इस वृद्धि का सीधा असर कांचीपुरम के 10,000 करोड़ रुपये के रेशम साड़ी उद्योग पर पड़ा है, जिससे उद्योग को भारी झटका लगा है।


About Author
Rishabh Namdev

Rishabh Namdev

मैंने श्री वैष्णव विद्यापीठ विश्वविद्यालय इंदौर से जनसंचार एवं पत्रकारिता में स्नातक की पढ़ाई पूरी की है। मैं पत्रकारिता में आने वाले समय में अच्छे प्रदर्शन और कार्य अनुभव की आशा कर रहा हूं। मैंने अपने जीवन में काम करते हुए देश के निचले स्तर को गहराई से जाना है। जिसके चलते मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार बनने की इच्छा रखता हूं।