Parenting Tips: कम उम्र में ही बच्चे बनेंगे जिम्मेदार, बस माता-पिता को बदलनी होगी अपनी ये आदत

Parenting Tips: बच्चों की परवरिश हर माता-पिता के लिए एक महत्वपूर्ण और चुनौतीपूर्ण काम होता है। हम सभी अपने बच्चों को जिम्मेदार, दयालु और सफल इंसान बनते हुए देखना चाहते हैं। लेकिन, कई बार हम अनजाने में ऐसी आदतें अपना लेते हैं जो बच्चों में नकारात्मक प्रभाव डाल सकती हैं।

parenting tips

Parenting Tips: पेरेंटिंग एक अद्भुत अनुभव है, लेकिन यह बहुत बड़ी जिम्मेदारी भी है। जब आप माता-पिता बनते हैं, तो आप एक ऐसे इंसान के जीवन और भविष्य के लिए जिम्मेदार बन जाते हैं जो पूरी तरह से आप पर निर्भर करता है। यह सुनिश्चित करना आपका कर्तव्य है कि आपका बच्चा शारीरिक रूप से स्वस्थ, मानसिक रूप से मजबूत, भावनात्मक रूप से बुद्धिमान और नैतिक रूप से सही बने। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, आपको न केवल अपने बच्चे की देखभाल करने की आवश्यकता है, बल्कि खुद को भी बदलना होगा। आज हम आपको ऐसे ही कुछ टिप्स देने जा रहे हैं जिनकी मदद से आप अपने बच्चों को जिम्मेदार और दयालु बना सकते हैं, तो चलिए जानते है।

ओवरप्रोटेक्टिव होना

जब माता-पिता अपने बच्चों को हर खतरे से बचाने की कोशिश करते हैं, तो वे उन्हें स्वतंत्र रूप से सोचने, निर्णय लेने और चुनौतियों का सामना करने से रोकते हैं। इसके परिणामस्वरूप, बच्चे आत्मनिर्भर बनने में असमर्थ हो सकते हैं, उनमें आत्मविश्वास की कमी हो सकती है और वे जीवन में कठिनाइयों का सामना करने में डर सकते हैं। बच्चों को विकसित होने और सीखने के लिए अनुभवों की आवश्यकता होती है, जिनमें गलतियाँ करना और उनसे सीखना भी शामिल है। यदि माता-पिता हमेशा बच्चों को गलतियों से बचाते रहते हैं, तो वे कभी भी महत्वपूर्ण जीवन कौशल विकसित नहीं कर पाएंगे। यह महत्वपूर्ण है कि माता-पिता अपने बच्चों को स्वतंत्रता दें, उन्हें जिम्मेदारियां सौंपें और उन्हें अपनी गलतियों से सीखने दें। बच्चों का समर्थन करें और उनका मार्गदर्शन करें, लेकिन उन्हें नियंत्रित करने या उन पर हावी होने की कोशिश न करें।

इमोशनल इंटेलिजेंसी इग्नोरेंस

बच्चों को अपनी भावनाओं को समझने, उनका प्रबंधन करने और दूसरों की भावनाओं को पहचानने और उनका सम्मान करने में मदद करता है। दयालु और जिम्मेदार बच्चों की परवरिश में EQ महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कई बार, हम बच्चों को पढ़ना, लिखना और गणित सिखाने पर ध्यान केंद्रित करते हैं, लेकिन उनकी भावनाओं को समझने और उनका प्रबंधन करने में मदद करने की अनदेखी करते हैं। यह बच्चों के लिए हानिकारक हो सकता है, क्योंकि वे अपनी भावनाओं को व्यक्त करने और नियंत्रित करने में असमर्थ हो सकते हैं, जिससे उन्हें सामाजिक और भावनात्मक समस्याएं हो सकती हैं। यह महत्वपूर्ण है कि हम बच्चों को उनकी भावनाओं को पहचानने और व्यक्त करने में मदद करें। उन्हें अपनी भावनाओं को स्वीकार करना और उनका प्रबंधन करना सिखाएं। उन्हें दूसरों की भावनाओं को समझने और उनका सम्मान करने के लिए प्रोत्साहित करें। EQ बच्चों को जीवन में सफल होने के लिए आवश्यक महत्वपूर्ण कौशल विकसित करने में मदद करता है। यह उन्हें बेहतर संबंध बनाने, संघर्षों को हल करने और कठिन परिस्थितियों का सामना करने में मदद करता है।

पहले खुद में लाना होगा बदलाव

हम चाहते हैं कि हमारे बच्चे दयालु, जिम्मेदार और नैतिक बनें, तो हमें सबसे पहले इन गुणों का प्रदर्शन खुद करना होगा। यह केवल शब्दों से नहीं होता। बच्चों को सिखाने का सबसे प्रभावी तरीका यह है कि हम अपने दैनिक जीवन में इन गुणों को मूर्त रूप दें। यदि हम चाहते हैं कि हमारे बच्चे दयालु बनें, तो हमें दूसरों के प्रति दयालुता का व्यवहार करना चाहिए। जरूरतमंदों की मदद करें, विनम्रता से बात करें और दूसरों की भावनाओं का सम्मान करें। यदि हम चाहते हैं कि हमारे बच्चे जिम्मेदार बनें, तो हमें स्वयं जिम्मेदार बनना होगा।

मूल्यों और नैतिकता की बात न करना

रोजमर्रा की जिंदगी की भागदौड़ में, हम अक्सर अपने बच्चों के साथ मूल्यों और नैतिकता पर बातचीत करने के महत्व को नजरअंदाज कर देते हैं। यह एक गंभीर गलती है, क्योंकि ये मूल्य बच्चों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ईमानदारी, सहानुभूति, सम्मान और जिम्मेदारी जैसे मूल्यों के बारे में नियमित रूप से बातचीत करके, हम बच्चों को इन अवधारणाओं को समझने और उन्हें अपने जीवन में अपनाने में मदद कर सकते हैं।

Disclaimer- यहां दी गई सूचना सामान्य जानकारी के आधार पर बताई गई है। इनके सत्य और सटीक होने का दावा MP Breaking News नहीं करता।


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News