Parenting Tips: समझदार बच्चों में झलकते हैं ये गुण, हर पैरेंट्स को डालनी चाहिए ये आदत

Parenting Tips: कई बच्चे छोटी उम्र से ही अपनी बुद्धि और प्रतिभा से दूसरों से अलग दिखाई देते हैं। अच्छे अंक, कलात्मक प्रतिभा, प्रभावशाली संवाद कौशल और शिक्षकों का प्यार - ये सभी गुण उन्हें "समझदार बच्चों" की श्रेणी में रखते हैं। माता-पिता अक्सर सोचते हैं कि इन बच्चों में क्या खास होता है जो उन्हें इतना अद्भुत बनाता है।वास्तव में, अच्छे वातावरण और सकारात्मक आदतों का मिश्रण इन बच्चों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

parenting tips

Parenting Tips: बच्चों को समझदार और सफल बनाने की हर माता-पिता की ख्वाहिश होती है। आप सोच रहे होंगे कि आखिर वो कौन सी आदतें हैं जो बच्चों में समझदारी लाती हैं? दरअसल, कुछ खास गुण होते हैं जो समझदार बच्चों में अक्सर देखे जाते हैं। आज हम उन्हीं 5 आदतों के बारे में बात करेंगे जिन्हें आप अपने बच्चों में डालकर उन्हें समझदार बना सकते हैं। ये आदतें न सिर्फ उनके दिमाग को तेज करेंगी बल्कि उन्हें ज़िंदगी की चुनौतियों से निपटने के लिए भी तैयार करेंगी। तो चलिए जानते हैं वो कौन सी 5 आदतें हैं।

इन 5 आदतों को ज़रूर अपनाएं

पूरी नींद लेना

बच्चों के लिए पूरी नींद लेना उनके शारीरिक और मानसिक विकास के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। जब बच्चे को पूरी नींद नहीं मिलती है, तो उसका स्कूल जाने का मन नहीं करता, पढ़ाई में ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होती है, और उसका मूड भी खराब रहता है। अक्सर देखा जाता है कि माता-पिता देर रात तक टीवी देखते हैं, जिसके कारण बच्चे भी जागकर टीवी देखने लगते हैं। यह आदत बच्चों की नींद में बाधा डालती है और उन्हें थका हुआ महसूस कराती है।

किताबें पढ़ना

किताबें पढ़ना एक ऐसी आदत है जो बच्चों को ज्ञानवान और समझदार बनाती है। रोजाना थोड़ी देर भी किताबें पढ़ने से बच्चों की कल्पनाशक्ति और भाषा कौशल का विकास होता है। कहानियां बच्चों को नई दुनिया से परिचित कराती हैं और कविताएं उनकी रचनात्मकता को बढ़ावा देती हैं। जानकारीपूर्ण किताबें बच्चों को विज्ञान, इतिहास और अन्य विषयों के बारे में सिखाती हैं। किताबें पढ़ने से बच्चों का शब्दभंडार बढ़ता है और उनकी सोचने-समझने की क्षमता विकसित होती है।
इसके अलावा, किताबें पढ़ने से बच्चों का मनोरंजन भी होता है और वे तनाव से दूर रहते हैं। माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चों को किताबें पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करें। वे बच्चों के साथ मिलकर किताबें पढ़ सकते हैं और उनसे किताबों के बारे में बातचीत कर सकते हैं।

काम को समय पर करना

टाइम मैनेजमेंट एक महत्वपूर्ण कौशल है जो बच्चों को समय का सदुपयोग करने और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करता है। यह सच है कि बड़े लोग भी टाइम मैनेजमेंट में कठिनाई महसूस करते हैं, लेकिन जिन बच्चों में यह आदत विकसित होती है, वे अधिक समझदार और सफल होते हैं। जो बच्चे टाइम मैनेजमेंट करते हैं, वे अपना समय पढ़ाई, खेल, और अन्य गतिविधियों के बीच संतुलित रखते हैं। वे जानते हैं कि कब क्या करना है और अपना समय बर्बाद नहीं करते हैं।
इसके अलावा, टाइम मैनेजमेंट बच्चों में आत्मविश्वास और अनुशासन भी विकसित करता है।

एक्टिव रहना

बच्चे स्वभाव से खिलखिलाते और शरारती होते हैं, और उनकी ऊर्जा को बाहर निकालने के लिए खेलकूद सबसे अच्छा तरीका है। खेलकूद से बच्चों का शारीरिक विकास होता है, उनकी हड्डियां और मांसपेशियां मजबूत होती हैं, और उनका प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत होता है। इसके अलावा, खेलकूद से बच्चों में आत्मविश्वास, अनुशासन और टीम भावना का विकास होता है। बच्चों को दिन में कम से कम एक घंटा खेलने के लिए प्रोत्साहित करें। उन्हें उन खेलों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करें जो उन्हें पसंद हैं। आप बच्चों के साथ मिलकर खेल सकते हैं या उन्हें किसी खेल वर्ग में नामांकित कर सकते हैं।

Disclaimer- यहां दी गई सूचना सामान्य जानकारी के आधार पर बताई गई है। इनके सत्य और सटीक होने का दावा MP Breaking News नहीं करता।


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।