Planting Tips: क्या आपके पास भी नहीं है ज्यादा समय? लगाएं ये पौधे नहीं करनी पड़ेगी ज्यादा देखभाल

Planting Tips: आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में, हमारे पास अक्सर अपने बगीचे को संवारने के लिए ज्यादा समय नहीं होता। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप एक खूबसूरत और रंगीन बगीचा नहीं रख सकते। कई ऐसे पौधे हैं जिन्हें कम देखभाल की आवश्यकता होती है और जो फिर भी खिल सकते हैं और आपके बगीचे को सुंदर बना सकते हैं।

gardening tips

Planting Tips: अपने घर में पेड़ पौधे लगाने का शौक सभी को होता है, लेकिन किसी के भी पास इतना समय नहीं रहता है कि पेड़ पौधे की अच्छी देखभाल कर सके। ऐसे में लोग कुछ इस प्रकार के पौधों की खोज करते हैं जिनकी ज्यादा देखभाल करने की जरूरत ना पड़े। अगर आप भी ऐसे ही पौधे अपने घर में लगाना चाहते हैं जिनकी ज्यादा देखभाल करने की जरूरत ना पड़े जिनमे अपने आप ढेर सारे फूल खिले, तो आप बिल्कुल सही जगह आए हैं। आज हम आपको इस लेख के द्वारा ऐसे ही कुछ खूबसूरत पौधे के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी कम से कम देखभाल की आवश्यकता होती है कम देखभाल में भी यह पौधे हरे भरे रहते हैं और इनमें फूल खिलते हैं, तो चलिए जानते हैं।

कौन से पौधे कम देखभाल में भी रहते हैं हरे-भरे

सकुलेंट पौधे

सकुलेंट पौधे अपनी मोटी, मांसल पत्तियों और विभिन्न आकृतियों और रंगों के लिए जाने जाते हैं। ये पौधे कम रखरखाव वाले होते हैं और तेज धूप सहन कर सकते हैं, जिससे ये बालकनी के लिए आदर्श बन जाते हैं। इन्हें अत्यधिक पानी देने से बचें, क्योंकि इससे जड़ें सड़ सकती हैं। मिट्टी के सूखने के बाद ही पानी दें। अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी का उपयोग करें। कैक्टस मिश्रण जैसी खाद का प्रयोग करें। तेज धूप वाली जगह पर रखें।

रजनीगंधा

रजनीगंधा (Tuberose) एक सुंदर और खुशबूदार फूल वाला पौधा है जो भारत और दक्षिण पूर्व एशिया का मूल निवासी है। यह पवित्र माना जाता है और इसका उपयोग अक्सर पूजा-पाठ और धार्मिक अनुष्ठानों में किया जाता है। रजनीगंधा के फूल सफेद रंग के होते हैं, जो कुप्पी के आकार के होते हैं और लगभग 25 मिलीमीटर लंबे होते हैं। इसकी महक सुगंधित और मनमोहक होती है, जो शाम के समय ज्यादा प्रकट होती है। रजनीगंधा के फूल को अनजानी और सुगंध राज नाम से भी जाना जाता है। रजनीगंधा की देखभाल करना बहुत आसान है। इसे धूप वाली जगह पर लगाएं। इसे नियमित रूप से पानी दें, लेकिन मिट्टी को गीली न होने दें। खाद के साथ मिट्टी को समृद्ध करें। मृत फूलों को हटा दें ताकि नए फूल खिल सकें।

कोलंबिया

कोलंबिया एक देसी पौधा है जो अपनी अनुकूलन क्षमता और कम रखरखाव के लिए जाना जाता है। यह स्थानीय परिस्थितियों में आसानी से जड़ लेता है और अधिक देखभाल के बिना भी बढ़ सकता है। वसंत और गर्मियों के महीनों में, यह सुंदर फूल पैदा करता है जो जेस्टर कैप की तरह दिखते हैं। बढ़ते मौसम के अंत में, डंठल को जमीन पर काट देना चाहिए ताकि नए विकास को प्रोत्साहित किया जा सके। कोलंबिया उन लोगों के लिए एक आदर्श पौधा है जो सुंदरता चाहते हैं बिना अधिक प्रयास किए। यह सूखे और गर्मी को सहन कर सकता है, जिससे यह गर्म जलवायु के लिए एक उत्तम विकल्प बन जाता है। इसके अलावा, कोलंबिया मधुमक्खियों और तितलियों को आकर्षित करता है, जो परागण में मदद करते हैं और बगीचे में जीवन लाते हैं। यदि आप एक ऐसा पौधा ढूंढ रहे हैं जो देखभाल करने में आसान हो, सुंदर फूल पैदा करता हो, और स्थानीय वातावरण के अनुकूल हो, तो कोलंबिया आपके लिए सही विकल्प हो सकता है।

डेज़ी

ये रंगीन फूल पूरे साल खिलते रहते हैं और इनकी देखभाल करना बहुत आसान होता है। डेज़ी अपने खूबसूरत और रंगीन फूलों के लिए जानी जाती हैं जो पूरे साल खिलते रहते हैं। यह कम रखरखाव वाला पौधा नौसिखियों के लिए आदर्श है, जो बागवानी की शुरुआत करना चाहते हैं। डेज़ी विभिन्न आकारों और रंगों में आती हैं, जिनमें सफेद, गुलाबी, पीला, नारंगी और लाल शामिल हैं। यह मधुमक्खियों और तितलियों को भी आकर्षित करती है, जो आपके बगीचे में जीवन लाती हैं। धूप वाली जगह पर लगाएं। नियमित रूप से पानी दें, लेकिन अधिक पानी न दें। मिट्टी को समृद्ध रखने के लिए खाद डालें। मृत फूलों को हटा दें ताकि नए फूल खिल सकें।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News