Recipe: ऐसे बनाएं आलू स्टफ्ड इडली मिनटों में, जानें आसान रेसिपी

Recipe: आलू स्टफ्ड इडली एक स्वादिष्ट और पौष्टिक नाश्ता है जो बनाने में भी आसान है। यह इडली का एक नया और रोचक संस्करण है जो बच्चों और बड़ों दोनों को पसंद आएगा।

idli

Recipe: आलू स्टफ्ड इडली एक अनूठा व्यंजन है जो पारंपरिक इडली को एक नया स्वाद और रोचक मोड़ देता है। यह स्वादिष्ट और पौष्टिक नाश्ता है जो बच्चों और बड़ों दोनों को पसंद आएगा। उबले हुए आलू, मसालों और हरी धनिया से बनी स्टफिंग इडली को एक अद्भुत स्वाद और खुशबू प्रदान करती है। यह नाश्ता प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और फाइबर का भरपूर स्रोत है। इडली का बैटर रात भर भिगोकर रखा जाता है, जिससे सुबह इसे बनाने में कम समय लगता है। आप अपनी पसंद के अनुसार स्टफिंग में विभिन्न प्रकार की सब्जियां या मांस भी डाल सकते हैं। आलू स्टफ्ड इडली को चटनी, सांभर या दही के साथ गरमागरम परोसा जा सकता है। यह नाश्ता आपके दिन की शुरुआत करने का एक स्वादिष्ट और पौष्टिक तरीका है।

आलू स्टफ्ड इडली बनाने के लिए आपको चाहिए:

इडली के लिए:

2 कप चावल
1 कप उड़द दाल
नमक (स्वादानुसार)
पानी (आवश्यकतानुसार)

स्टफिंग के लिए:

2 बड़े चम्मच तेल
1/2 छोटा चम्मच जीरा
1/2 छोटा चम्मच राई
2-3 हरी मिर्च, बारीक कटी हुई
1 इंच अदरक, कद्दूकस किया हुआ
2-3 लहसुन की कलियां, बारीक कटी हुई
1 प्याज, बारीक कटा हुआ
2-3 आलू, उबले हुए और मैश किए हुए
1/2 छोटा चम्मच हल्दी पाउडर
1/4 छोटा चम्मच लाल मिर्च पाउडर
1/4 छोटा चम्मच धनिया पाउडर
1/4 छोटा चम्मच गरम मसाला
नमक (स्वादानुसार)
1/4 कप हरा धनिया, बारीक कटा हुआ

विधि:

इडली बनाना:

चावल और उड़द दाल को अच्छी तरह धोकर 6-8 घंटे के लिए भिगो दें।
भिगोए हुए चावल और उड़द दाल को मिक्सी में पीसकर एक गाढ़ा बैटर बना लें।
बैटर में नमक मिलाकर अच्छी तरह मिलाएं।
बैटर को ढककर 10-12 घंटे के लिए फरमेंट होने दें।
एक इडली मेकर में पानी गरम करें और इडली के सांचे में तेल लगाकर बैटर डालें।
इडली को 10-12 मिनट तक या स्टीम होने तक पकाएं।

स्टफिंग बनाना:

एक पैन में तेल गरम करें और जीरा, राई, हरी मिर्च, अदरक और लहसुन डालकर भूनें।
प्याज डालकर सुनहरा होने तक भूनें।
उबले हुए आलू, हल्दी पाउडर, लाल मिर्च पाउडर, धनिया पाउडर, गरम मसाला और नमक डालकर अच्छी तरह मिलाएं।
5 मिनट तक भूनें और हरा धनिया डालकर मिलाएं।


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।