Relationship Tips: रिलेशनशिप में अलगाव की वजह बन सकता है पार्टनर का इमोशनल मेच्योर न होना, ऐसा होता है बिहेवियर

दिक्कत तो तब आती है जब एक पार्टनर समस्याओं पर बात करने की बजाय रिएक्ट करता है, तो यह रिश्ते में कठिनाइयां पैदा कर सकता है। ऐसे व्यक्ति को अक्सर Emotional Immature माना जाता है। यदि आपके वैवाहिक जीवन में भी ऐसा हो रहा है तो जानिए इसके लक्षण...

Relationship Tips : शादीशुदा जिंदगी एक ऐसी शुरुआत होती है। जब लड़का और लड़की दोनों को ही एक-दूसरे के साथ जीवन भर के लिए साथ रहना होता है। केवल इतना ही नहीं, उन्हें एक साथ एक-दूसरे के परिवार को भी सहेज कर चलना पड़ता है। लड़कों के लिए तो यह थोड़ा इजी होता है, लेकिन लड़कियों के लिए यह बहुत बड़ा चैलेंजिंग काम होता है, क्योंकि उन्हें पति के साथ-साथ उनके घर वालों के अलावा उनके रिश्तेदारों को भी देखना होता है। ऐसे में तालमेल समझदारी और विश्वास की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। हर रिश्ता कुछ न कुछ चुनौतियाँ लेकर आता है और शादी भी इससे अलग नहीं है। शुरुआती दौर में खानपान, सोने-बैठने की आदतें और बातचीत में छोटी-छोटी चीज़ें भी बड़ी समस्याएं लग सकती हैं। हालांकि, दिक्कत तो तब आती है जब एक पार्टनर समस्याओं पर बात करने की बजाय रिएक्ट करता है, तो यह रिश्ते में कठिनाइयां पैदा कर सकता है। ऐसे व्यक्ति को अक्सर Emotional Immature माना जाता है। यदि आपके वैवाहिक जीवन में भी ऐसा हो रहा है तो जानिए इसके लक्षण…

Relationship Tips: रिलेशनशिप में अलगाव की वजह बन सकता है पार्टनर का इमोशनल मेच्योर न होना, ऐसा होता है बिहेवियर

अपनाएं ये रिलेशनशिप टिप्स

  • जब आपका पार्टनर आपकी शिकायतें सुनने और सुधारने की जगह अपना बचाव करता है। इस दौरान वह गुस्से से आप पर बरस पड़ता है, तो यह भावनात्मक रूप से अपरिपक्व व्यवहार का संकेत है। ऐसी स्थिति में उनका रिएक्शन चाहे जितनी भी तीव्र हो, खुद को शांत रखें। आपके शांत रहने से स्थिति नहीं बिगड़ेगी।
  • जब आपका पार्टनर आपकी फीलिंग्स को समझने की बजाय उनका मजाक उड़ाता है या आपको खराब दिखाने की कोशिश करता है, तो यह न केवल आपका अपमान होता है, बल्कि रिश्ते में जहर घोलने का काम करता है। ऐसे समय में उन्हें शांत करवाकर समझाने की कोशिश करें या फिर खुद को वहां से अलग कर लें।
  • अगर आपका पार्टनर अपनी पुरानी गलतियों से नहीं सीखता और हमेशा अपनी गलतियों का ठीकरा आपके सिर फोड़ता है, तो इससे आगे चलकर रिश्ते में कठिनाइयां पैदा हो सकती है। साथ ही आपके शादीशुदा जिंदगी में दरार पड़ सकता है। ऐसी परिस्थिति में उन्हें यह समझाने की कोशिश करें कि किसी भी हेल्दी रिश्ते में दोनों पार्टनर्स को अपनी-अपनी जिम्मेदारी स्वीकार करनी होती है।
  • कई बार पार्टनर बच्चों जैसा बर्ताव करता है, जैसे कि चुप हो जाना या अधिक रिएक्ट करना जोकि इमोशनल मेच्योर नहीं होने का संकेत होता है। ऐसे परिस्थितियों को संभालने के लिए उनके व्यवहार के ट्रिगर्स को समझने की कोशिश करें। चाहे वे कितना भी चुप हो जाएं या गुस्से में आ जाएं, आपका शांत रहना है। इसके अलावा, आप उनकी बातें ध्यान से सुन सकते हैं।
  • जब आपका पार्टनर रिश्ते में समस्याओं का सामना करने की बजाय उन्हें इग्नोर करता है, तो यह आपके लिए बहुत ही चैलेंजिग हो सकता है। ऐसे में आपको उनसे किसी भी मुद्दे में खुलकर बातचीत करनी चाहिए, ताकि मैटर को सॉल्व किया जा सके। अपनी परेशानियों का साथ बैठकर हल ढूढ़नें का प्रयास करें। पार्टनर को समझाएं कि यदि वे बार-बार समस्याओं को नजरअंदाज करते हैं, तो इसके परिणाम गलत भी हो सकता है।
  • जो लोग इमोशनली मेच्योर नहीं होते वह समस्याओं को हल करने के बजाय हर बात पर गुस्सा हो जाते हैं और अपने पार्टनर को डराकर रखने का प्रयास करते हैं, इससे रिश्ते में दरार पड़ सकता है। ऐसी स्थिति में उनके गुस्से का जवाब शांतिपूर्ण तरीके से दें। उन्हें शांत दिमाग से समझाने का प्रयास करें ताकि उनके रिश्ते में दूरी ना आए।

(Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। MP Breaking News किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।)


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है।पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News