आलीराजपुर। यतेंद्र सिंह सोलंकी।

देश को आजादी दिलाने वाले महानायक नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 123 वीं जयंती जिला कांग्रेस कमेटी के तत्वावधान में गुरुवार को जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस दौरान बोस के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। कांग्रेसी नेताओं ने बोस के प्रसिद्ध नारा तुम मुझे खून दो, में तुम्हे आजादी दूंगा के जमकर नारेबाजी की। इस अवसर पर जिला कांग्रेस अध्यक्ष महेश पटेल, विधायक मुकेश पटेल सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसी नेता और कार्यकर्ता मौजूद थे।

श्रद्धासुमन अर्पित कर बोस को किया याद
जिला कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रफ़ीक कुरेशी ने बताया कि मप्र कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर सिनेमा चौराहा स्थित जिला कांग्रेस कार्यालय पर नेताजी के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जिलाध्यक्ष महेश पटेल ने कहा कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस पहले भारतीय सशत्र सेना बल की स्थापना की थी, जिसका नाम आजाद हिंद फौज रखा था। नेताजी शुरू से ही सैन्य अनुशासन में यकीन रखते थे। उनके इंकलाबी नारे तुम मुझे खून दो, में तुम्हे आजादी दूंगा के नारे से भारतीयों के दिलो में देशभक्ति की भावनाएं ओर बलवान होती है। आज भी उनके इस इंकलाबी नारे से हम सभी को प्रेरणा मिलती है। उनके योगदान ओर बलिदान को देश कभी नही भूल सकता है। विधायक मुकेश पटेल ने कहा कि नेताजी ने देश को आजादी दिलाने में अपनी शहादत दी है। आजादी के सिपाही का जीवन वैसे तो वीरता के किस्सों के साथ याद किया जाता है, लेकिन संघर्ष के साथ जीवन रहस्यों के लिए तो नेताजी सुभाषचंद्र बोस का ही नाम आता है। इस अवसर पर कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष ओमप्रकाश राठौर, कांग्रेसी नेता अनिल थेपड़िया, राजेन्द्र टवली,डॉ.एएम शेख, भूरसिंह डॉवर, सुरेश सारडा, आसुतोष पंचोली, चीतल पंवार, मंसूर मर्चेंट, ईरफान मंसूरी, ब्रजेश खंडेलवाल, अनूप सोमानी, अंकित माहेश्वरी, विक्की डुडवे, धनराज राठौड़ सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।