अशोकनगर : ओला पीड़ित किसानों ने लगाया जाम, sdm मे लिखवाया 3 दिन मे सर्वे कर मुआवाजा देंगे

किसानों ने sdm से लिखित मे इस बार मुआवजा देने कि लिखवा कर ली तब जाम खत्म किया।

अशोकनगर,हितेंद्र बुधौलिया। जिले के शाडोरा तहसील क्षेत्र में शानिवार को हुई ओलावृष्टि से पीड़ित किसानों ने आज सोमवार को शाडोरा बस स्टैंड पर सड़क पर बैठ कर गुना अशोकनगर स्टेट हाई वे पर जाम लगा दिया। कांग्रेस के ब्लाक अध्यक्ष निखिल रघुवंशी की अगुआई में लगभग एक घंटे तक चले इस धरना व चक्का जाम से सड़क पर दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई। इस दौरान किसान अपनी मांगों को लेकर नारेबाजी करते रहे, सूचना मिलने पर एसडीएम रवि मालवीय ,तहसीलदार विनीत गोयल व थाना प्रभारी नरेंद्र त्रिपाठी पुलिस अमले के साथ मौके पर पहुंचे। प्रशासनिक अमले ने किसानों को समझाइस दी। मगर किसान मौखिक आश्वासन से नही माने। किसानों ने sdm से लिखित मे इस बार मुआवजा देने कि लिखवा कर ली तब जाम खत्म किया।

यह भी पढ़े…Corona update: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हुए कोरोना संक्रमित, ट्वीट पर जानकारी देते हुए किया यह अनुरोध

इस दौरान किसानों द्वारा मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन एसडीएम को दिया गया जिसमें कहा गया है। पिछले 3 सालों से किसानों की फसल प्राकृतिक प्रकोप से नष्ट हो रही है पर 3 साल से न मुआवजा मिला है न बीमा, शनिवार को ओला वृष्टि से फिर किसानों की फसल चौपट हो गई हैं। उन्होंने जल्द ही पिछले बीमा व मुआवजा के साथ इस बार हुए नुकसान में 40 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर के हिसाब से मुआवजा दिए जाने की मांग की है।

यह भी पढ़े…सागर में पीडबल्यूडी के एसडीओ को रिश्वत लेते लोकायुक्त ने रंगे हाथों पकड़ा

प्रशासनिक अधिकारियो के मौखिक रूप से लगातार समझाइश के बाद भी किसान नही माने। एसडीएम मालवीय ने किसानों को लिखित आश्वासन दिया जिसमें कहा गया है कि आज सोमवार से आगामी 3 दिन में सर्वे कराया जा कर पात्र हितग्राहियों को आर बी सी के तहत नियमानुसार सहायता व मुआवजा राशि दी जाएगी। आश्वासन के बाद चक्काजाम हटाया गया।

यह भी पढ़े…मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष और नगरीय प्रशासन मंत्री को कोर्ट का नोटिस

गौरतलब हैं कि इससे पूर्व खरीफ की सोयाबीन की फसल पूर्णता नष्ट हो गई थी जिससे किसानों की आर्थिक स्थिति चरमरा गई है किसी तरह इस फसल में लागत लगा कर उम्मीद लगाए हुए थे पर ओला वृष्टि कमर तोड़ दी है। यदि समय पर मुआवजा नहीं मिला तो उन्हें अपने परिवार की गुजर चलना मुश्किल हो जाएगा।किसानो के इस चक्का जाम मे क काग्रेसीओ नेताओ की भरमार देखी गई।