सिंधिया का अपमान बर्दाश्त नहीं ,इसलिये विधायकी छोड़ी: जज्जी

अशोकनगर। हितेंद्र बुधोलिया| जिले के शाडौरा कस्बे में भाजपा ने मंडल बैठक का आयोजन चौरसिया गार्डन में किया । कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में चाचौड़ा की पूर्व विधायक श्रीमती ममता मीना उपस्थित रही। कार्यक्रम की अध्यक्षता भाजपा जिला अध्यक्ष उमेश रघुवंशी एवं मुख्य अतिथि पूर्व विधायक जजपालसिंह जज्जी, सीता राम काका उपस्थित रहे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुये पूर्व विधायक जजपाल सिंह जज्जी ने कहा कि हम अपने नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकते थे इस कारण हमने इस्तीफा दिया।

उपचुनाव के मद्देनजर विधानसभा क्षेत्र के मंडल शाढ़ौरा में भाजपा कार्यकर्ताओं के सम्मेलन के दौरान शुक्रवार को पूर्व विधायक,भाजपा प्रत्याशी जजपाल सिंह जज्जी ने कार्य कर्ताओं को संबोधित करते हुए कही उन्होंने कहा कि श्री सिंधिया की मेहनत और जनता से किए गए वादों पर प्रदेश जनता ने श्री सिंधिया पर विश्वास किया जिसकी बदौलत कांग्रेस सत्ता में आई लेकिन मुख्यमंत्री कमलनाथ को बनाया गया। मुख्यमंत्री बनने के बाद कांग्रेस, कमलनाथ द्वारा श्री सिंधिया के प्रभाव को कम करने के लिए उनकी उपेक्षा की जाने लगी | श्री सिंधिया ने चुनाव पूर्व किसानों तथा प्रदेश की जनता से जो वादे किए थे उन्हें कमलनाथ सरकार द्वारा पूरा नहीं किया जा रहा था। जब भी श्री सिंधिया जनता के बीच जाते तो लोग उनसे पूछते कि आपने जो वादे किए थे वह कब पूरे होंगे इस बात को लेकर कई बार श्री सिंधिया ने मुख्यमंत्री कमलनाथ से चर्चा की | लेकिन लगातार फंड की कमी बता कर उनकी बात को अनसुना किया जाता रहा, इस पर श्री सिंधिया ने जनता के बीच कहा कि अगर वचन पत्र में किसानों और प्रदेश की जनता से किए गए वादे कमलनाथ सरकार पूरे नहीं करती तो जनता के साथ सड़कों पर उतर कर संघर्ष करेंगे इस पर कमलनाथ द्वारा श्री सिंधिया का उपहास उड़ाने के लिए कहा गया कि उन्हें सड़कों पर उतरना है तो उतर जाएं उन्हें कौन रोक रहा है।

पूर्व विधायक ने कहा इस तरह कांग्रेस और कमलनाथ द्वारा श्री सिंधिया की उपेक्षा की गई। और हम अपने नेता का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकते थे इसलिए हमने इस्तीफा दिया। श्री जज्जी ने अपने अनुभव सुनाते हुए कहा कि जब भी वह क्षेत्र की विकास की योजनाओं का प्रस्ताव लेकर मुख्यमंत्री के पास जाते तो उनको सुना नहीं जाता मुख्यमंत्री के पास समय नहीं रहता। हमेशा उपेक्षित करते रहे 15 माह के कार्यकाल में क्षेत्र के विकास का एक कार्य स्वीकृत नहीं किया यहां तक की हम विधायक होते हुए भी लोगों की मांग पर एक हेड पंप लगवाने के लिए स्वीकृत कराने उस सरकार में तरस गए थे। ऐसे में जब विधायक होते हुए भी हम जनता का एक काम नहीं करा सकते तो ऐसे विधायक रहने से क्या फायदा इसी सोच के साथ हम ने इस्तीफा दिया। और भाजपा की सरकार बनी जब हम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से मिले और उन्हें क्षेत्र के विकास की योजनाओं का प्रस्ताव दिया तो उन्होंने बड़ी गंभीरता के साथ उन प्रस्तावों को तत्काल 15 दिन के अंदर स्वीकृत कर विकास कार्य शुरू कराए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 15 माह में एक भी विकास की योजनाओं को स्वीकृत नहीं किया वही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 15 दिन में करोड़ों रुपए के विकास कार्य स्वीकृत कर दिए जिनमें बिजली पानी और सड़कों की योजनाएं हैं। यह अंतर हमने देखा शिवराज सिंह और कमलनाथ में उन्होंने कहा कि क्षेत्र के विकास के लिए मैं फिर से आपके बीच में आया हूं और आपका आशीर्वाद चाहता हूं। और विश्वास दिलाता हूं कि आपका आशीर्वाद मुझे मिला तो क्षेत्र में कई विकास के कार्य होंगे।

इस दौरान मुख्य वक्ता के रूप में चाचौड़ा की पूर्व विधायक श्रीमती ममता मीना ने कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि किसानों से किए गए वादों को पूरा न करने के चलते परेशान हो रहे किसानों की पुकार को भगवान ने सुन लिया और श्री सिंधिया के माध्यम से कमलनाथ जी की ऐसी मति कर दी की उन्होंने सिंधिया का अपमान किया और सरकार गिर गई। अब हमारे कार्यकर्ताओं को एक बार फिर हमारी सरकार को मजबूत बनाने के लिए भाजपा प्रत्याशी को पूरी ताकत से जिताना है।

मंडल सम्मेलन के दौरान सेकड़ो कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने भाजपा की सदस्यता ली वही सभी भाजपा कार्यकर्ताओं का भगवा तौलिया डालकर स्वागत किया गया।