अशोकनगर/ हितेंद्र बुधौलिया

बुधवार को चंदेरी विधायक गोपाल सिंह चौहान ने ईसागढ़ अस्पताल के निरीक्षण के दौरान मोबाइल पर  CMHO डॉ जे आर त्रिवेदीया को खूब फटकारा था और इसका वीडियो भी उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर डाला था। इस वीडियो में वह CMHO पर मास्क की क्वालिटी घटिया होने एवं कमीशनखोरी का आरोप लगा रहे थे। लेकिन विधायक का ये कारनामा अब उन्हीं पर भारी पड़ता नज़र आ रहा है। उनके इस व्यवहार की डॉक्टर बिरादरी में जमकर आलोचना हो रही है और CMHO ने तो क्षुब्ध होकर विधायक द्वारा दी गई 17.20 लाख रूपये की विधायक निधि वापस करने का फैसला भी लिया है।

इस मामले में CMHO डॉ जे आर त्रिवेदीया का कहना है कि विधायक गोपाल सिंह चौहान के सारे आरोप निराधार एवं गलत है। उनका कहना है कि जिस मास्क को वो घटिया बता रहे हैं, वह असल में सर्जिकल मास्क है और साधारण कपड़े की तुलना में काफी अच्छा होता है जिसे डॉक्टर भी उपयोग करते हैं। इसलिए इसको घटिया कहना सरासरल गलत है। इसके अलावा कमीशनखोरी के आरोप को लेकर CMHO का कहना है कि जो सामान खरीदा है अभी उसका किसी तरह का भुगतान किया ही नहीं गया तो कमीशन खोरी का सवाल ही पैदा नहीं होता।

विधायक द्वारा खुलेआम सीएमएचओ को जिस तरह फटकारा गया और उसे सोशल मीडिया पर वायरल किया गया इसको लेकर जिले भर के डॉक्टर नाराज हैं । उनका कहना है कि कोरोना संकट से के दौरान डॉक्टर अपनी जान जोखिम में डालकर लगातार काम कर रहे हैं। ऐसे में जहां हर जगह लोग डॉक्टरों के प्रति सम्मान जता रहे हैं वहीं चन्देरी विधायक अपने विधायक निधि के चंद पैसों की सहायता को अपने तरीके से खर्च न कर पाने के कारण डॉक्टरों को हड़का रहे हैं। ऐसे में विधायक का यह व्यवहार डॉक्टरों को आहत कर गया है।

उल्लेखनीय है कि अशोकनगर जिले में इस समय गोपाल सिंह चौहान एकमात्र विधायक हैं तथा अशोकनगर एवं मुंगावली के विधायक इस्तीफा दे चुके हैं । इसी कारण चंदेरी विधायक ने अपनी विधायक निधि से 17.20 लाख रुपये कोरोना संकट को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग को दिए थे । विधायक ने बुधवार को आरोप लगाया था कि उन्हें बताए बगैर यह सामान खरीदा गया है। साथ ही उन्होंने कहा था कि यह पैसा किसी के बाप का नहीं है उनकी विधायक निधि का है और वो जैसे चाहये उस तरह खर्च करना पड़ेगा। विधायक की इस घमकी के बाद cmho ने उनका पैसा उन्हें लौटाने का फैसला कर किया है। माना जा रहा है कि संभवत: किसी विधायक द्वारा दी गई निधि को भी वापस करने का प्रदेश का यह पहला मामला होगा । CMHO डॉ त्रिवेदिया का कहना है कि विधायक निधि वापिस करने के लिये पत्र लिख रहे है साथ ही उनका कहना है कि जो सामान आ गया है उसके भुगतान की कोई और व्यवस्था करेंगे।