Bhopal News: क्लासेज ऑनलाइन तो परीक्षा क्यों ऑफलाइन, धरने पर नूतन काॅलेज की छात्राएं

जब संक्रमण दोबारा तेजी पकड़ रहा है तो परीक्षाएं ऑफलाइन क्यों ली जा रही हैं? कॉलेज प्रबंधन ने 10 अप्रैल से ऑफलाइन एग्जाम रखे हैं। छात्राएं इसी का विरोध कर रही हैं।

bhopal, student protest

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना (corona) का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है और वहीं हाल ही में भोपाल (bhopal) के एक स्कूल की 4 छात्राएं कोरोना पॉजिटिव (corona positive) पाई गईं हैं। इन सबके बीच नूतन कॉलेज (nootan college) की छात्राएं (students) ऑफलाइन परीक्षा (offline exams) के विरोध में धरने (protest) पर बैठी हैं। छात्राओं की मांग है कि एग्जाम ऑनलाइन होने चाहिए। उनका कहना है कि जब संक्रमण दोबारा तेजी पकड़ रहा है तो परीक्षाएं ऑफलाइन क्यों ली जा रही हैं? कॉलेज प्रबंधन ने 10 अप्रैल से ऑफलाइन एग्जाम रखे हैं। छात्राएं इसी का विरोध कर रही हैं।

सरोजनी नायडू शासकीय कन्या स्नातकोत्तर स्वशासी कॉलेज, शिवाजी नगर की छात्राओं ने शुक्रवार को कॉलेज के मुख्य गेट पर बैठ कर धरना प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में कॉलेज की फर्स्ट, सेकंड और थर्ड इयर की छात्राएं शामिल थीं। छात्राओं ने ऑफलाइन परीक्षा का विरोध करते हुए धरना दिया और ये प्रश्न उठाया कि परीक्षा के वक़्त किसी भी छात्रा के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर जिम्मेदारी किसकी होगी।

यह भी पढ़ें… किसानों के लिए बड़ी व्यवस्था, MSP पर गेहूं बेचने में इन्हें मिलेगी प्राथमिकता

छात्राओं का कहना है कि कोरोना की वजह से सारी क्लासेज ऑनलाइन ली गयी हैं। एक बार फिर संक्रमण रफ्तार पकड़ रहा है, ऐसे में ऑफलाइन परीक्षाएं लेना खतरे से खाली नहीं है। छात्राओं ने कहा कि कॉलेज में कई छात्राएं दूसरे शहरों से पढ़ने आती है, कॉलेज हॉस्टल नहीं खोला गया है लेकिन परीक्षाए ऑफलाइन हो रही हैं, ऐसे में हॉस्टल में रहने वाली छात्राएं कैसे मैनेज करेंगी। छात्राओं ने बताया कि उन्होंने अपनी सारी परेशानियों को आवदेन के रूप में कॉलेज प्रबंधन को भेजा है लेकिन वहां से कोई जवाब नहीं आया।

वहीं कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ प्रतिभा सिंह का कहना है कि ऑफलाइन परीक्षा करवाना सरकार का आदेश है जिसको हम नकार नहीं सकते। उन्होंने बताया कि छात्राओं की मांग के बारे में सरकारी अधिकारियों को मौखिक रूप से जानकारी दे दी गयी है। आगे जैसा सरकार कहेगी, वैसा करना होगा।