6 महिने में 71 किसानों की मौत, अबतक एक का भी नही हुआ 2 लाख का कर्जा माफ!

71-farmers-die-in-six-months-in-mp

भोपाल।

विधानसभा का मानसून सत्र शुरु हो चुका है और विपक्ष की भूमिका निभा रही बीजेपी कमलनाथ सरकार का जमकर घेराव कर रही है। विधानसभा में लगाए गए प्रश्नों के माध्यम से सरकार की जमकर घेराबंदी की जा रही है। खास करके किसान  और कर्जमाफी को लेकर ज्यादा सवाल उठाए जा रहे है। सत्र के पहले बीजेपी विधायकों ने किसानों की कर्जमाफी और आत्महत्या को लेकर जवाब मांगे। जिस पर गृहमंत्री ने बताया कि पिछले छह महिनो में 71 किसानों ने आत्महत्या की है। वही कृषि मंत्री ने बताया कि जबलपुर जिले में अभी तक एक भी किसान का कर्ज माफ नही हुआ है। 

दरअसल, भाजपा विधायक कमल पटेल ने विधानसभा मे किसानों की आत्महत्या से संबंधित सवाल लगाया था, जिसमे उन्होंने पिछले छह महिनों में हुई किसानों की मौत और उसका कारण पूछा था। जिस पर गृहमंत्री ने लिखिति में जवाब दिया है। गृहमंत्री ने जवाब में बताया है कि एक दिसंबर 18  से 12  जून 19  तक प्रदेश में 71  किसानों ने आत्महत्या की है।इनमें शिवपुरी में 4 , अशोकनगर में 6 , भिंड़ में 12 , सागर में 13  औऱ सीधी में सबसे अधिक किसानों ने आत्महत्या की है।इसके अलावा धार, बड़वानी, देवास , छिंदवाड़ा, विदिशा में एक एक , शाजापुर , छतरपुर सिंगरौली में दो दो , उमरिया में पांच, शहडोल औऱ सागर में तीन तीन किसानों ने आत्महत्या की है।

वही भाजपा विधायक अजय विश्नोई के सवाल के जबाव में कृषि मंत्री  सचिव यादव ने बताया है कि जबलपुर जिले में एक भी किसान का दो लाख का कर्जा माफ नही हुआ है।मंत्री ने लिखिति में जवाब दिया है कि जिले में दो लाख के कर्जमाफी की जानकारी निरंक है।

बीजेपी नेता ने उठाए सवाल

जानकारी सामने आने के बाद बीजेपी ने सरकार पर सवाल उठाना शुरु कर दिया है। बीजेपी नेता हितेश वाजपेई ने ट्वीटर के माध्यम से इन जवाबों पर सवाल उठाए है और सीएम को बदलने की बात कही है।वाजपेई ने लिखा है कि सफ़ेद झूठ वाले मुख्यमंत्री कमलनाथ को बदलिए राहुल गांधी जी क्योंकि आपने यह मध्यप्रदेश से वादा किया था।