LOKSABHA ELECTION: भाजपा में इन सीटों पर बनी सहमति, घोषणा जल्द

4676
bjp-may-be-released-candidate-for-madhya-pradesh-

भोपाल| लोकसभा चुनाव के लिए प्रत्याशी चयन को लेकर भाजपा में जमकर खींचतान हो रही है| हालाँकि पार्टी में अंतिम दौर का मंथन हो रहा है| आज कल में सभी सीटों पर फैसला ले लिया जाएगा| ग्वालियर छोड़कर मुरैना से प्रत्याशी बनाये गए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर को भोपाल लाने पर बनी असमंसा की स्तिथि अब साफ़ हो गई है| दिल्ली में बैठक के बाद यह साफ़ हो गया है कि तोमर मुरैना सीट से ही चुनाव लड़ेंगे| शुक्रवार को दिल्ली में भाजपा की बची हुई आठ सीटों के लिए फिर मंथन हुआ, जिसमें से पांच पर तकरीबन सहमति बन गई। 

भोपाल को लेकर कई दौर के मंथन के बाद एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का नाम आगे चल रहा है| इससे पहले शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री उमा भारती का नाम चर्चा में आया, हालाँकि उमा चुनाव नहीं लड़ना चाहती| लेकिन उमा भारती की दिल्ली में आरएसएस के प्रमुख नेताओं से उदासीन आश्रम में मुलाकात हुई, जिससे उन संभावनाओं को बल मिला कि भोपाल में कांग���रेस उम्मीदवार व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के सामने उमा भारती भाजपा से मैदान में उतर सकती हैं। हालांकि संगठन प्राथमिकता में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ही रख रहा है। साध्वी प्रज्ञा की संभावनाएं भी टटोली जा रही हैं। बताया जा रहा है कि शिवराज ही भोपाल से प्रत्याशी होंगे|  

पांच सीटों पर बनी सहमति

भाजपा अब तक 21 सीटों पर प्रत्याशियों का ऐलान कर चुकी है| भोपाल, इंदौर, गुना, विदिशा, धार, खजुराहो, सागर, रतलाम में उम्मीदवार घोषित किये जाने का इन्तजार है| पांच सीटों पर लगभग सहमति बन गई है| यह सूची एक-दो दिन में जारी हो सकती है। इसमें गुना संसदीय सीट से कांग्रेस उम्मीदवार ज्योतिरादित्य सिंधिया के सामने भाजपा केपी यादव को और धार से छतर सिंह को टिकट दे सकती है। सागर में राजबहादुर सिंह के नाम पर सहमति बनी है, लेकिन केंद्रीय संगठन एक बार पूर्व मंत्री जयंत मलैया को लेकर भी जानकारी लेगा। झाबुआ में जीएल डामोर या कल सिंह भाबर और खजुराहो में वीडी शर्मा या रविराज यादव में से एक को भाजपा मैदान में उतारेगी। इंदौर में ताई के चुनाव नहीं लड़ने के ऐलान के बाद से ही समीकरण बदले हैं, लेकिन ताई की सहमति के बाद ही उम्मीदवार तय होगा| जिसके चलते अब तक फैसला नहीं हो पाया|  इंदौर से पंकज संघवी का नाम सबसे आगे है, लेकिन इस सीट पर भाजपा प्रत्याशी घोषित होने का इंतजार है। उसके कद के अनुसार ही कांग्रेस अपने प्रत्याशी पर अंतिम फैसला करेगी। वहीं धार लोकसभा सीट से दिनेश गिरवाल के नाम पर सहमति बन गई है, यहां से तीन बार सांसद रहे गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी के नाम की भी चर्चा है।  

विदिशा में चलेगी शिवराज की पसंद 

विदिशा सीट पर शिवराज समर्थक रमाकांत भार्गव को टिकट मिल सकता है, कांग्रेस ने यहां शैलेन्द्र पटेल को उतारा है| पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विदिशा लोकसभा सीट छोडऩा नहीं चाहते खुद लोकसभा का चुनाव लडऩा भी नहीं चाहते। वे पत्नी साधना सिंह को यहां से टिकट चाहते हैं। इसके लिए उनके खास रामपाल सिंह के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल दिल्ली जाकर सुषमा स्वराज एवं अन्य नेताओं से मुलाकात भी कर चुका है। हालाँकि साधना को चुनाव लड़ाने के पक्ष में हाई कमान नहीं है| विदिशा से पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा, राघवजी अपने बेटे ज्योति के लिए भी टिकट चाहते हैं। वरिष्ठ नेता रघुनंदन शर्मा भी यहां से दावेदार हैं। यहाँ जो भी नाम तय होगा वो शिवराज की ही पसंद होगा| 

रतलाम-झाबुआ पर जयस ने फंसाया पेंच

रतलाम लोकसभा सीट से भाजपा का प्रत्याशी घोषित करने में जयस (जय आदिवासी युवा शक्ति) ने पेंच फंसा रखा है। इसी कारण नामांकन भरने के 17 दिन पहले तक भाजपा प्रत्याशी घोषित नहीं कर पा रही है। जयस ने महापंचायत में निर्णय लेने के बाद कहा कि जो भी राष्ट्रीय दल हमारे संगठन को जहां से टिकट देगा वहां हम उसके साथ रहेंगे। रतलाम से जयस के प्रत्याशी को टिकट देने के लिए प्रदेश संगठन के सामने ताकत बता रहा है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here