मप्र पंचायत चुनाव को लेकर अब सामने आया रिटायर्ड IAS का फेसबुक पोस्ट

रिटायर्ड आईएएस वीना घाणेकर ने आगे लिखा है कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा जब यह स्पष्ट रूप से कह दिया गया कि पंचायती राज में ओबीसी का आरक्षण संविधान में नहीं है ।

पंचायत चुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के पंचायत चुनाव (MP Panchayat Election 2021-22) को लेकर पूरे प्रदेश में सियासी हलचल का दौर जारी है। रविवार को शिवराज सरकार द्वारा कैबिनेट बैठक में लिए गए फैसले के बाद अब पंचायत चुनाव पर एमपी की रिटायर्ड आईएएस वीना घाणेकर (Retired IAS Veena Ghanekar) की टिप्पणी सामने आई है, जिसमें उन्होंने साफ लिखा है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का पालन करने की बजाय बीजेपी-कांग्रेस दोनों ही अनावश्यक रूप से राज्य निर्वाचन आयोग के पाले में गेंद फेंक रहे हैं ।

यह भी पढ़े.. नए साल से पहले लाखों पेंशनरों के लिए गुड न्यूज, जनवरी में ऐसे आएगी पेंशन की राशि

दरअसल, रिटायर्ड आईएएस वीना घाणेकर ने फेसबुक पर लिखा है कि माननीय सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के द्वारा महाराष्ट्र राज्य एवं मध्य प्रदेश राज्य के खिलाफ जो निर्णय लिया है एवं ओबीसी की सीटों को सामान्य सीटों में परिवर्तित करने के निर्देश दिए गए हैं ,उसके पालन करने से कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही बच रहे हैं और अनावश्यक रूप से राज्य निर्वाचन आयोग के पाले में गेंद फेंक रहे हैं ।

यह भी पढ़े.. अभी नहीं होंगे MP पंचायत चुनाव, पंचायत राज अध्यादेश वापस, आयोग जल्द करेगा बड़ा ऐलान

रिटायर्ड आईएएस वीना घाणेकर ने आगे लिखा है कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा जब यह स्पष्ट रूप से कह दिया गया कि पंचायती राज में ओबीसी का आरक्षण संविधान में नहीं है । यह संविधान के बाहर जाकर निर्णय लिया गया है आग से न खेला जाए और भारतीय समाज को और अधिक ना तोड़ा जाए। तो भी सरकार है कि मानती नहीं। अब भगवान ही मालिक है पंचायती राज का और उसके भविष्य का !क्या यह भारत के सर्वोच्च न्यायालय की स्पष्ट रूप से अवमानना नहीं है?