सर्द हवाओं से तीन से चार डिग्री तक लुढ़का पारा, खजुराहो रहा सबसे ठंडा

Mercury-down-due-to-cold-wave-in-mp

भोपाल। पहाड़ों में बर्फबारी के चलते कोहरा और शीतलहर के बीच न्यूनतम तापमान गिरकर चार डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। इससे गलन और बढ़ गई। वहीं ठंडी हवा के कहर से धूप भी राहत नहीं दिला पाई। मौसम वैज्ञानिक लगातार पारा गिरने और कोहरा व ठंड का कहर बढने की संभावना जता रहे हैं।  भोपाल सहित अनेक स्थानों पर पारा तीन से चार डिग्री तक लुढक़ जाने से ठंड का प्रभाव बढ गया। इस बीच राजधानी भोपाल में रात का पारा चार डिग्री तक गिर गया जिसके चलते ठिठुरन बढ़ गयी।

मौमस विभाग के अनुसार जम्मू कश्मीर में बना पश्चिमी विझोभ अब आगे बढ़ गया और मौसम साफ हो गया है, जिसके चलते ठंड का प्रभाव बढा है। ठंड के यह तेवर आने वाले कुछ दिनों में और सख्त हो सकते हैं। इस बीच पर्यटन नगरी खजुराहो प्रदेश का सबसे ठंडा स्थल रहा, जहां रात का पारा तीन डिग्री पर पहुंच गया। इसके अलावा छतरपुर के नौगांव, दतिया और ग्वालियर में भी ठंड का असर रहा, जहां पारा पांच डिग्री सेल्सियस के आसपास बना रहा।

इसके साथ ही विंध्य के रीवा, सतना और सीधी सहित अन्य स्थानों पर ठंड़ के साथ कोहरे का भी असर रहा। वहीं महाकौशल क्षेत्र के जबलपुर, मंडला, बालाघाट सहित अनेक स्थानों पर इस अचानक बढ़ी ठंड का असर देखा गया। पिछले तीन से चार दिनों से पश्चिमी विझोभ के असर के चलते आसमान में हल्के बादल रहे, जिसके चलते ठंड के तीखे तेवर कुछ दिनों के लिए नरम पड़ गए थे। विभाग ने अगले चौबीस घंटों के दौरान प्रदेश के अधिकतर हिस्सों में मौसम सूखा रहने का अनुमान जताया है, वहीं कुछ जगहों में शीतलहर का प्रभाव देखा जा सकता है। आने वाले दो से तीन दिनों में ठंड में इजाफा होने की संभावना जतायी जा रही है।