MP News : दिग्विजय सिंह ने सीएम शिवराज को लिखा पत्र, पूर्व IFS अधिकारी पर कार्रवाई की मांग की

MP News : पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा है, पत्र में एक सामाजिक कार्यकर्ता के शिकायती पत्र का हवाला देते हुए दिग्विजय ने मप्र राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के पद पर कार्यरत रहते हुए पूर्व IFS ललित मोहन बेलवाल द्वारा पद का दुरुपयोग करने की प्राप्त शिकायत पर कार्रवाई करने का अनुरोध किया है।

दिग्विजय सिंह ने सामाजिक कार्यकर्ता एवं तत्कालीन जिला प्रबंधक जिला पंचायत रायसेन के पत्र को संलग्न करते हुए करते हुए लिखा सीएम शिवराज को संबोधित पत्र में लिखा कि पूर्व IFS ललित मोहन बेलवाल वर्ष 2018 में सेवानिवृत्त हो चुके है, परन्तु इनके वर्ष 2012 से 2018 तक मुख्य कार्यपालन अधिकारी, म.प्र. राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के कार्यकाल के दौरान उनके द्वारा भ्रष्टाचार करने तथा नियम विरूद्ध तरीके से भर्ती करने की शिकायत प्राप्त हुई थी।

शिकायतें प्राप्त होने पर तत्कालीन अपर मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती नेहा मारव्या द्वारा जांच कराई गई थी। जांच उपरांत ललित मोहन बेलवाल को दोषी पाते हुए इनके विरुद्ध आपराधिक प्रकरण दर्ज कराये जाने की कार्यवाही की गई थी। लेकिन बेलवाल के उच्च अधिकारियों से संबंध के चलते इनके विरुद्ध कार्यवाही करने वाली तत्कालीन अपर मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती नेहा मारव्या को इसके परिणाम स्वरूप मानसिक रूप से प्रताड़ना का सामना करना पड़ा तथा इन्हें बिना किसी कार्य के पूल में पदस्थ कर दिया गया।

सामाजिक कार्यकर्ता प्रजापति ने वर्ष 2018 में सेवानिवृत्त होने के पश्चात पूर्व IFS ललित मोहन बेलवाल को जुलाई 2020 से पुनः संविदा के आधार पर विशेष कर्तव्यस्थ्य अधिकारी (OSD )के पद पर पदस्थ करने के बाद गुपचुप तरीके से इन्हें मुख्य कार्यपालन अधिकारी का प्रभार भी सौपने की शिकायत करते हुए इनका अनुबंध आगे नहीं बढ़ाने तथा इनके विरुद्ध कानूनी कार्यवाही किये जाने का निवेदन किया है।  दिग्विजय सिंह ने लिखा कि मेरा आपसे अनुरोध है कि संलग्न शिकायती पत्र में उल्लेखित तथ्यों की जांच कराते हुए आवश्यक कार्यवाही हेतु संबंधित को समुचित निर्देश प्रदान करने का कष्ट करें।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News