मध्य प्रदेश में यात्री बसों का किराया बढ़ाने की तैयारी, खर्च करने पड़ सकते हैं ज्यादा रुपए

50 फीसद यात्री किराया बढ़ता है तो यात्रियों को प्रदेश भर में संचालित 35000 से अधिक यात्री बसों में सफर करने के लिए एक स्र्पये प्रति किलोमीटर रुपये की जगह डेढ़ रुपये प्रति किलोमीटर किराया देना होगा।

MP

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश (Madhyapradesh) में आम जनों को अब महंगे बस किराए का भी झटका लग सकता है| कोरोना काल में बुरी तरह प्रभावित हुए बस संचालकों और बस ुनियनों की मांग पर जल्द ही राजधानी भोपाल समेत प्रदेश भर में बस किराया  (Bus Fare) बढ़ाया जा सकता है| किराए बढ़ाने की मांग लम्बे समय से चल रही है| लेकिन उपचुनाव के कारण किराया नहीं बढ़ाया गया था| अब शासन नए साल में किराया बढ़ाने की स्वकृति दे सकता है|

सूत्रों के मुताबिक, बस किराये में 50 फीसदी तक बढ़ोतरी हो सकती है। अगर मांग के मुताबिक 50 फीसद यात्री किराया बढ़ता है तो यात्रियों को प्रदेश भर में संचालित 35000 से अधिक यात्री बसों में सफर करने के लिए एक स्र्पये प्रति किलोमीटर रुपये की जगह डेढ़ रुपये प्रति किलोमीटर किराया देना होगा।

बस असोसिएशन का कहना है कि साल 2018 में यात्री बसों का किराया बढ़ा था, तब से किराया नहीं बढ़ाया गया। इस बीच डीजल के दाम भी बढे हैं| इसलिए किराए में वृद्धि जरूरी है| कोरोना काल में बसों का सञ्चालन नहीं हुआ और फिर अनुमति के बाद भी पूरी तरह बसों का संचालन नहीं हुआ| उनमें कोरोना काल से पहले की अपेक्षा 30 फीसद कम यात्री सफर कर रहे हैं। इससे बस संचालकों को प्रति बस चार से पांच हजार रुपये प्रतिदिन घाटा उठाना पड़ रहा है। शासन को अंतिम फैसला लेना है। जल्द ही यात्री किराया बढ़ने की उम्मीद है|