MP Transport : स्टेट हाईवे के टोल प्लाजा की लेन होगी Fastag !

मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम (MPRDC) ने अपने अधीन आने वाले 75 टोल प्लाजा संचालकों को सिर्फ दो लेन (एक आने और एक जाने के लिए) ही फास्टैग करने के निर्देश दिए हैं।

टोल प्लाजा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।MP Transport. मध्य प्रदेश (MP) की शिवराज सरकार (Shivraj Government) ने एक और बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत  अब स्टेट हाइवे (State Highway) के टोल प्लाजा (Toll plaza) की सिर्फ दो लेन फास्टैग होंगी। इसके लिए मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम (Madhya Pradesh Road Development Corporation) ने स्टेट हाइवे के टोल प्लाजा संचालकों को निर्देश जारी कर दिए है, जिसके तहत MPRDC ने 75 टोल प्लाजा संचालकों को सिर्फ दो लेन (एक आने और एक जाने के लिए) ही फास्टैग (Fastag) करने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए  MPRDC ने राज्य सरकार से 22 करोड़ से ज्यादा का बजट की मांग की है।

यह भी पढ़े… नगरीय निकाय चुनाव : इस आधार पर होगा प्रत्याशी का चयन, ब्लू प्रिंट बनाने की तैयारी में BJP

दरअसल, वर्तमान में मध्य प्रदेश में 123 टोल प्लाजा हैं, जिनमें 75 एमपीआरडीसी (MPRDC) और 48 एनएचएआई (NHAI) के हैं।इसमें मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम (एमपीआरडीसी) ने अपने अधीन आने वाले 75 टोल प्लाजा संचालकों को सिर्फ दो लेन (एक आने और एक जाने के लिए) ही फास्टैग करने के निर्देश दिए हैं, बाकी लेन में पुरानी व्यवस्था ही लागू रहेगी। वैसे तो एक लेन के फॉस्टैग की लागत करीब 15 लाख रुपए आता है , इसलिए MPRDC ने दो लेन को फास्टैग करने के लिए राज्य सरकार से  करीब 22.50 करोड़ रुपए का बजट (Budget) मांगा है।

इसमें एंबुलेंस और फायरब्रिगेड जैसे वाहनों को फास्टैग से छूट है संभावना जताई जा रही है कि फरवरी के आखिरी सप्ताह में स्टेट हाईवे के सभी टोल फास्टैग हो सकते है। अभी तक इंदौर-देवास सेक्शन (Indore-Dewas section) के 3 टोल समेत 18 टोल फास्टैग किए जा चुके हैं।वही NHAI के सभी टोल फास्टैग से बाहर है। बता दे कि 22 फरवरी से मध्य प्रदेश  विधानसभा (MP Legislative Assembly) का बजट सत्र 2021(Budget session 2021) शुरु होने वाला है।

यह भी पढ़े… MP News: आबकारी अधिकारी के आगे नतमस्तक मंत्री जी का आदेश

इस सिस्टम की खास बात यह है कि इसमें आम व्यक्ति पर बैंक के सर्विस चार्ज के रूप में लगने वाली एक्वायरिंग फीस राष्ट्रीय राजमार्ग के टोल नाकों की बजाए 3 गुना कम लगेगी। प्रदेश के टोल नाकों पर इस सर्विस के शुरू होने से राहगीरों के समय की बचत होगी, साथ ही लाइन में लगने के झंझट से वाहन मालिक मुक्त हो जाएगा।

क्या है फास्टैग

फास्टैग एक प्रकार का टैग या चिप है। इस कार्ड में रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफेकशन लगा होता है जिसे कार की विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है। इसके जरिए आप टोल प्लाजा (Toll Plazas) पर टोल टैक्स (Toll Tax) का भुगतान कैशलेस कर सकते हैं। जब भी FASTag लगी कार टोल प्लाजा से गुजरेगी तो ऐसी स्थिति में Tax डायरेक्ट वाहन मालिक के खाते से कट जाएगा।इस तरह से बिना रूके ही टोल टैक्स का भुगतान ऑटोमेटिक (Automatic) तरीके से हो जाएगा। वाहन में लगा यह फास्टैग कार्ड जनता के प्रीपेड खाते के एक्टिव होने के बाद ही अपना काम करता है, और फास्टैग अकाउंट में बैलेंस खत्म हो जाएगा, तो उसे दुबारा रिचार्ज करना पड़ेगा।