What-did-say-Digvijay-about-nehru

भोपाल। मध्यप्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार और वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने बड़ा ही अजीबोगरीब बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के बाद काग्रेंस में लिखने-पढ़ने वाले नेता नहीं रहे। दिग्विजय के इस बयान के बाद राजनैतिक गलियारों में हलचल मच गई और सवाल उठने लगे है क्या कांग्रेस में कोई पढ़ा लिखा नेता नही। वही बीजेपी भी इसको लेकर जमकर हमले बोल रही है। बीजेपी नेता हितेष वाजपेई ने इसे पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी पर टिप्पणी बताया है।वही कई पत्रकारों ने भी ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

दरअसल, रविवार को दिग्विजय सिंह भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी के कार्यालय एक सभा को संबोधित करने पहुंचे थे। जहां उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस में ज्यादा पढ़े -लिखे लोग नहीं जितने पंडित नेहरू के समय हुआ करते थे। नेहरू के बाद तो कांग्रेस नेताओं ने पढ़ना-लिखना ही छोड़ दिया। आज भी सोच, विचार और लिखने-पढ़ने में वामपंथियों से प्रेरणा ली जाती है। हालांकि दिग्विजय ने अपने इस बयान में कांग्रेस के किसी भी नेता का नाम नहीं लिया। इस बयान पर अब सियासी बवाल मच गया है। वही बीजेपी जमकर चुटकी ले रही है।  दिग्विजय के इस बयान के बाद बीजेपी नेता हितेष वाजपेई ने तंस कसते हुए कहा है कि कांग्रेस में पंडित नेहरू के बाद कोई पढ़ा लिखा नहीं आया जिससे कांग्रेस को काफी नुकसान हुआ : बंटाधार” ??…ये क्या पार्टी अध्यक्ष पर उनकी टिपण्णी है ?

वही वरिष्ठ पत्रकार राजेश सिरोठिया ने लिखा है कि इसका मतलब तो यही हुआ कि सोनिया, राहुल और प्रियंका की पढ़ने लिखने में कोई रुचि नही..? सिब्बल, मनीष तिवारी, आनंद शर्मा, चिंदबरम, अर्जुन सिंह जैसे बड़े नेताओं का भी पढने लिखने का कोई वास्ता नही..?इतना वैचारिक दारिद्रय..? वामपंथी कोयल के विचारों के अंड़े, कांग्रेस के भरोसे..?

वही नेहा पंथ ने लिखा है कि दिग्विजय सिंह, कांग्रेस में पंडित नेहरु के बाद कोई पढा लिखा नही आया जिससे कांग्रेस को काफी नुकसान हुआ और उन्हें लगता है कि चुनाव के वक्त ऐसे बयान से कांग्रेस को फायदा होगा! सेल्फ गोल में माहिर है दिग्गी।