सागर के श्मशान में शिक्षा की जगी अलख, नाम दिया ‘मिशन मुक्तिधाम’

सागर (Sagar) जिले में श्मशानघाट में बच्चों को शिक्षा दी जा रही है। साथ ही उन्हें नई-नई चीजें भी सिखाई जा रही है। जो बच्चे शवयात्रा के दौरान सिक्के बीनने जाते थे, उन्हें कॉलेज के एक शिक्षक की नई पहल से शिक्षा मिल रही है।

सागर, डेस्क रिपोर्ट। ऐसा कहा जाता है कि जहां पर भी शिक्षा (Education) दी जाती है, वह एक मंदिर (Temple) बन जाता है। वहीं जब श्मशानघाट (graveyard) जैसी जगह पर शिक्षा की एक छोटी सी चिराग दिख जाए तो यह सभी के लिए एक आश्चर्य से कम नहीं होगा। हम बात कर रहे हैं सागर (Sagar) जिले की, जहां श्मशान में बच्चों को शिक्षा (Educating Children) दी जा रही है। साथ ही उन्हें नई-नई चीजें भी सिखाई जा रही है। जो बच्चे शवयात्रा के दौरान सिक्के बीनने जाते थे, उन्हें कॉलेज के एक शिक्षक की नई पहल से शिक्षा (Education) मिल रही है।

बच्चें भूले बुरी आदत

अब बस्तियों में रहने वाले बच्चे बुरी आदतों को भूलकर श्मशान में जाकर शिक्षा ले रहे हैं। जहां उन्हें गलती करने पर सजा भी दी जाती है। जो सजा डांट लगाने या फिर पिटाई खाने वाली नहीं होती, बल्कि पर्यावरण के प्रति प्रेम दिखाते हुए पौधरोपण करना होता है। कॉलेज के शिक्षक की इस नई पहल की सभी लोग सराहना कर रहे हैं। जिससे गरीब बच्चों की जिंदगी में शिक्षा की नई रोशनी दिखाई दे रही है।

ये भी पढ़े- IIM Indore ने फिर रचा किर्तीमान, ग्लोबल एमबीए की टॉप 100 श्रेणी में शामिल

 

बच्चों को श्मशान में पढ़ाया जा रहा हिंदी, इंग्लिश और पर्यावरण 

बता दें कि सागर जिले के नरयावली नाके के पास झुग्गियां बनी हुई है। जिसमें रहने वाले बच्चे शवयात्रा के दौरान फेंके गए सिक्कों को उठाने जाते हैं और उन्हीं सिक्कों से गुजारा करते हैं। जब इन बच्चों को शहर के कुछ युवाओं ने देखा, तो उनके लिए कुछ करने की इच्छा जागृत हुई। जिसके बाद युवाओं ने ही श्मशान घाट पर बच्चों को हिंदी, इंग्लिश और पर्यावरण पढ़ाने लगे। जिसका अच्छा परिणाम सामने आ रहा है।

शिक्षक महेश तिवारी ने की पहल की शुरुआत

इस पहल की शुरुआत कॉलेज शिक्षक महेश तिवारी ने की है। साथ ही इस पाठशाला का नाम मिशन मुक्तिधाम रखा गया है। जहां मुक्तिधाम के बाउंड्रीवॉल को ही पढ़ाने के समय ब्लैक बोर्ड की तरह उपयोग किया जाता है। इस मुक्तिधाम में बच्चों को पढ़ाने के लिए शहर के कुछ युवा आते हैं। जो 5 साल से 12 साल के बच्चों को शिक्षा दे रहे हैं। शिक्षा में हिंदी, अंग्रेजी और पर्यावरण के साथ-साथ चित्रकला गायन और नृत्य भी सिखाया जाता है। इस दौरान उन्हें खेलकूद से जुड़ी गतिविधियां भी कराई जाती है। जिससे उनका मानसिक विकास के साथ-साथ शारीरिक विकास भी हो सके।

ये भी पढ़े- Suicide : भोपाल में रहकर B.Com की पढ़ाई कर रही छात्रा ने की आत्महत्या, जांच में जुटी पुलिस

पौधा लगाने की मिलती है सजा

मुक्तिधाम में पढ़ने आने वाले बच्चों में यदि कोई शरारत करता है तो उसे परिसर में ही गड्ढा खोदकर पौधा लगाने की सजा मिलती है। जानकारी के अनुसार, श्मशान घाट पर यह पाठशाला करीब 45 दिनों से संचालित हो रही है। जिसमें करीब 80 से ज्यादा बच्चे शामिल होते हैं। इन बच्चों को शहर के ही 8 युवा शिक्षा दे रहे हैं, जो इन्हें बुरी आदतें भी छुड़वाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

MP Breaking News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here