दमोह: ग्रामीण अंचलों को कोरोना मुक्त करने हेतु प्रशासन कर रहा रणनीति पर काम

इसी सिलसिले में कलेक्टर (collector) एवं जिला मजिस्ट्रेट (district magistrate) ने जबेरा में एक बैठक में शामिल होकर प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए जिसके लिहाज से काम किया जाएगा।

दमोह

दमोह, आशीष कुमार जैन। दमोह (damoh) में  राज्य सरकार के निर्देश के बाद अब जिला प्रशासन (district administration) के द्वारा जिला मुख्यालय के साथ ग्रामीण और कस्बाई इलाकों से कोरोना (corona) के केस कम करने पर ध्यान दिया जाने लगा है। इस लिहाज से अब वहां पर एक नई रणनीति लागू करने के संबंध में प्रयास शुरू कर दिए गए हैं। इसी सिलसिले में कलेक्टर (collector) एवं जिला मजिस्ट्रेट (district magistrate) ने जबेरा में एक बैठक में शामिल होकर प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए जिसके लिहाज से काम किया जाएगा।

यह भी पढ़ें… भोपाल- हफ्ते में 2 दिन खुलेंगे पेट्रोल पंप! कलेक्टर ने कहा और सख्ती की जाएगी

दमोह जिले से कोरोना को समाप्त करने के लिए राज्य सरकार के निर्देश के बाद जिला प्रशासन के द्वारा तैयारियों को चाक-चौबंद किया जा रहा है। दमोह के कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट तरूण राठी ने जबेरा विधानसभा क्षेत्र के ग्रामीण अंचलों का भ्रमण किया तथा वहां पर बैठक का आयोजन कर राज्य सरकार के निर्देशों से अवगत कराया। कलेक्टर ने बताया कि अब ग्रामीण अंचलों और कस्बाई अंचलों को तीन जोन में बांटा जाएगा। जिससे वहां पर कोरोना के केस कम किये जाने पर बेहतर रणनीति बनाई जा सकेगी। उन्होंने बताया कि जहां पर एक भी केस नहीं है। उसे ग्रीन जोन में बांटा जाएगा। जहां 3 से कम केस है उसे ऑरेंज जोन में रखा जाएगा। 3 केस से ज्यादा वाले ग्रामीण अंचलों को रेड जोन में रखा जाएगा।

यह भी पढ़ें… Petrol Diesel Price: चुनाव के बाद आम आदमी को झटका, इतने बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम

वहीं इन सभी को ग्रीन जोन में लाने का प्रयास किया जाएगा। जिससे ग्रामीण अंचलों से कोरोना को खत्म किया जा सके। इसी के साथ कोरोना पॉजिटिव मरीजों के द्वारा घर से बाहर घूमने या उनके परिजनों द्वारा घर से बाहर घूमने पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। वहीं कलेक्टर ने बैठक में अन्य दिशा-निर्देश भी दिए।