कलेक्टर की ये कैसी भाषा, बोले- “इन हरामखोरों को ठीक करते-करते मैं थक गया”

दतिया, सत्येन्द्र सिह रावत। दतिया जिले के कलेक्टर संजय कुमार का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह राशन की दुकान में गड़बड़ी करने वाले के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग कर रहे हैं। राशन वितरण में गड़बड़ी करने वाले इस दुकानदार के खिलाफ कलेक्टर के निर्देश पर ईसी एक्ट के तहत मामला भी दर्ज किया गया है।

Dewas News :किसानों के साथ लाखों की ठगी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह का पर्दाफाश, 2 आरोपी गिरफ्तार

दतिया के कलेक्टर संजय कुमार को सार्वजनिक वितरण प्रणाली में वितरित होने वाली सामग्री में गड़बड़ी की शिकायत मिली थी जिसके आधार पर उन्होंने हिनोतिया की उचित मूल्य की दुकान पर छापा मारा। वहां पर ग्रामीणों से संवाद भी किया गया और यह पता चला कि सेल्समैन उपभोक्ताओं को कम गेहूं बांट रहा था। यह एरिया बाढ़ प्रभावित है और यहां पर सरकार के निर्देश है कि लोगों को 50 किलो अतिरिक्त गेहूं दिया जाए, जबकि पूर्व निर्धारित गेहूं की मात्रा में भी 10 किलो गेहूं की मात्रा कम दी जा रही थी। इस पर कलेक्टर भड़क गए और सेल्समैन से बोले कि ‘क्या इन गरीबों को कच्चा चबा जाएगा।’ दूसरे अधिकारी की ओर इशारा करके वह बोले कि ‘इन हरामखोरो को ठीक करते-करते मैं थक गया। अब इनकी सजा सिर्फ जेल है और इन्हें जेल भेजने की तैयारी की जाए।’

हालांकि कलेक्टर का गुस्सा होना वाजिब था और उनके पास इस बात की भी व्यापक अधिकार हैं कि वह गड़बड़ी पाए जाने पर कानूनी कार्रवाई कर सकें लेकिन जिस तरह की भाषा का उन्होंने प्रयोग किया वह किसी भी रुप में मर्यादित नहीं कही जा सकती। कलेक्टर ने ग्रामीणों को यह भी समझाया कि दुकानदार यदि उनके घर पर जाकर उनसे अंगूठा लगवा देते हैं तो वह कतई ऐसा ना करें क्योंकि ऐसा करने से दुकानदारों के पास उनके अनाज आवंटन के अधिकार पहुंच जाते हैं और वे गड़बड़ी कर सकते हैं। बाद में हिनोतिया के सार्वजनिक वितरण प्रणाली के सेल्समैन के खिलाफ ईसी एक्ट का मामला दर्ज कर लिया गया है।