कांग्रेस पर खूब बरसे गृहमंत्री, कहा – इस बार में 2600 से नहीं बल्कि 36000 मतों से जीतूंगा

home minister dr narottam mishra

MP Election : मध्य प्रदेश में चुनाव का आगाज होते ही प्रत्याशियों का शक्ति प्रदर्शन भी शुरू हो चला है। मध्य प्रदेश की सबसे ज्यादा हाई प्रोफाइल हॉट सीट मानी जा रही है। दतिया विधानसभा में भी प्रदेश के गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने रविवार के दिन हजारों की संख्या में रैली निकाल कर शक्ति प्रदर्शन किया है।

बता दें कि गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा दतिया से भाजपा प्रत्याशी हैं और आज उन्होंने स्थानीय सिंधी धर्मशाला ठंडी सड़क से हजारों कार्यकर्ताओं की रैली निकाल कर पूरे बाजार में शक्ति प्रदर्शन किया और बाजार में रैली के रूप में भ्रमण करते हुए जनता जनार्दन का आशीर्वाद लिया और भगवान रूपी जनता का इस बार भी आशीर्वाद मिले इसके साथ ही उन्होंने हाथ जोड़कर अभिवादन किया। उनके साथ हजारों की संख्या में भाजपा के देव तुल्य कार्यकर्ता साथ चल रहे थे और भारतीय जनता पार्टी जिंदाबाद के नारे पूरे शहर में होते हुए लगाते रहे।

मांगे 25 दिन, दी 5 साल की गारंटी

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कांग्रेस पार्टी पर हमला किया। गृहमंत्री ने कांग्रेस पर प्रहार करते हुए कहा कि मेरी दतिया की जनता इस बार अगर आप मुझे 25 दिन दोंगे तो मैं 5 साल की गारंटी देता हूं और यह 5 साल आपकी ईमानदारी से जी जान से जान लगा दूंगा और 5 साल तक आपकी सेवा करूंगा। आप अगर कमल का फूल दबाएंगे तो कश्मीर में तिरंगा लहराएगा, अगर आप यहां से कमल का फूल का बटन दबाएंगे तो चांद पर तिरंगा फहराएगा और अगर आप यहां से कमल का फूल दबाएंगे तो हमारे भारत की सेना सीमा पर मजबूत होगी।

2600 से नहीं बल्कि 36000 मतों से जीतूंगा

उन्होंने कहा कि अगर दतिया में कांग्रेस आई तो है शांति खा जाएगी दतिया की, दुकानदारों से वसूली करवाएगी, फिर से गुंडागर्दी चालू हो जाएगी और यह 20 साल से भूखे बैठे हैं। वहीं गृहमंत्री ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि कांग्रेस के प्रत्याशी कह रहे थे कि मैं पिछली बार 2600 मतों से जीता था इस बार वह 26000 से हारेंगे। लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि इस बार में 2600 से नहीं बल्कि 36000 मतों से जीतूंगा नहीं तो मैं अपनी जीत को जीत नहीं मानूंगा।
दतिया से सत्येन्द्र रावत की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News