दतिया/सत्येन्द्र सिंह रावत

जिले में ‘‘किल कोरोना‘‘ अभियान में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं पंचायत सचिवों द्वारा घर-घर जाकर व्यापक सर्वेक्षण किया जाएगा। यह अभियान 15 दिन तक चलेगा। यह जानकारी बुधवार को कलेक्टर रोहित सिंह की अध्यक्षता में संपन्न हुई बैठक में दी गई। इस मौके पर कलेक्टर ने कहा कि अभियान में घर-घर जाकर जांच की जाएगी। इस दौरान कोरोना संक्रमित पाए गए व्यक्ति का समुचित इलाज किया जाएगा। अभियान के संचालन के लिए जिला स्तर एवं गांव स्तर तक टीमें तैनात की गई हैं। अभियान के दौरान सर्वे से कोई व्यक्ति छूटे नहीं, यह सुनिश्चित किया जाएगा।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. उदयपुरिया ने बताया कि वायरस नियंत्रण और स्वास्थ्य जागरूकता अभियान में सरकार और समाज साथ-साथ कार्य करेंगे। अभियान में सर्दी, खांसी व जुकाम के साथ डेंगू, मलेरिया, डायरिया आदि के लक्षण पाए जाने पर जरूरी परामर्श और उपचार नागरिकों को दिया जाएगा। गर्भवती महिलाओं, टीकाकरण से छूटे बच्चों को भी चिन्हित किया जाएगा। सेम्पल की व्यवस्था भाण्डेर, सेवढ़ा, बसई एवं इंदरगढ़ में भी की गई है। अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत धनंजय मिश्रा ने बताया कि अभियान में मानीटरिंग के लिए सेक्टर अधिकारियों, जोनल अधिकारियों एवं नोडल अधिकारियों की भी डयूटी लगाई गई है।

बैठक में पुलिस अधीक्षक अमन सिंह राठौर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत अतेन्द्र सिंह गुर्जर, अपर कलेक्टर विवेक कुमार रघुवंशी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एस.एन. उदयपुरिया, सिविल सर्जन सह अस्पताल अधीक्षक डाॅ. डी.के. गुप्ता तथा सुरेन्द्र बुधौलिया, बलदेव राज बल्लू, विजय दुवे, राजू त्यागी, दीपू सचदेवा समाजसेवी उपस्थित थे।