किसानों की तर्ज पर व्यापारियों में भी उठी कर्जमाफी की मांग

-Demand-of-debt-waiver-raised-in-the-traders-on-the-lines-of-farmers

ग्वालियर। किसानों की तर्ज पर व्यापारियों की और से भी कर्जमाफी की मांग तेज हो गई है| कन्फैडरेशन आॅफ आॅल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि जीएसटी एवं नोट बंदी के बाद से कारोबार में मंदी एवं आर्थिक संकट से जूझ रहे व्यापारियों को भी उसी प्रकार कर्ज माफी दी जाए, जिस तरह मध्यप्रदेश एवं अन्य राज्यों में किसानों को दी जा रही है। इसके लिए कैट एक देशव्यापी आंदोलन चलाएगा। इसकी रणनीति 12 से 13 जनवरी तक भोपाल में होने जा रही कैट की राष्ट्रीय गवर्निंग काउंसिल की बैठक में तय होगी। कन्फैडरेशन आॅफ आॅल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) की ग्वालियर इकाई द्वारा व्यापारियों से के हितों से जुड़े महत्त्वपूर्ण मुद्दों को लेकर होटल लैंडमार्क में चाय पर चर्चा का आयोजन हुआ| 

मप्र कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अशोक सिंह ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी लागू होने के बाद से तमाम गंभीर आर्थिक एवं कारोबारी संकट झेल रहे एवं मझोले व्यापारियों द्वारा किसानों की तर्ज पर की गई कर्जमाफी की मांग से सहमति जताते हुए कहा कि व्यापारी स्वाभिमान एवं सम्मान के साथ व्यापार करते हुए जनता और देश की सेवाओं में जुटे हियँ| देश की अर्थव्यवस्था में अहम् भूमिका निभाने वाले व्यापारी यदि संकट में आते हैं तो उन्हें समस्याओं से उभरना भी सरकार का फर्ज है|  उन्होंने रिटेल व्यापार में एफडीआई और ई-काॅमर्स के कारण तेजी से बिगड़ते व्यापारिक माहौल पर चिंता जताई।